देश

पूर्व राज्यपाल अश्विनी कुमार की मौत के बाद घर में मिला सूइसाइड नोट

शिमला
हिमाचल प्रदेश के शिमला स्थित अपने घर में मृत पाए गए पूर्व राज्यपाल अश्विनी कुमार ने अपने सूइसाइड नोट में बीमारी से तंग आकर खुदकुशी करने की वजह लिखी थी। नगालैंड के पूर्व राज्यपाल और पूर्व सीबीआई निदेशक रहे अश्विनी कुमार का शव शिमला के ब्रॉकहास्ट स्थित उनके घर पर मिला था। हिमाचल प्रदेश के डीजीपी संजय कुंदू का कहना है कि अश्विनी कुमार की आत्महत्या के मामले की जांच की जा रही है। हालांकि उन्होंने अपने सूसाइडड नोट में किसी को इसका दोषी नहीं बताया है।

इससे पहले बुधवार को अश्विनी कुमार की मौत की जानकारी के बाद पुलिस की एक टीम उनके घर पर जांच के लिए पहुंची थी। इस टीम को मौके पर एक सूइसाइड नोट भी बरामद हुआ। इस नोट में लिखा था कि मैं जिंदगी से तंज आकर अपनी अगली यात्रा पर निकल रहा हूं। नोट में यह भी लिखा गया है कि मैं अपनी बीमारी से तंग आकर यह कदम उठा रहा हूं। सूइसाइड नोट में मौत के बाद अंगदान करने की इच्छा भी लिखी गई है।

मणिपुर-नगालैंड के पूर्व राज्यपाल और पूर्व CBI डायरेक्टर अश्विनी कुमार का निधन, घर में फांसी के फंदे पर झूलता मिला शव

मणिपुर और नगालैंड के पूर्व राज्यपाल और सीबीआई के पूर्व निदेशक अश्विनी कुमार का बुधवार को निधन हो गया। 70 वर्षीय अश्विनी कुमार शिमला के अपने घर में फांसी के फंदे पर झूलते पाए गए थे। हालांकि पुलिस की टीम अभी ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आत्महत्या के पीछे मुख्य वजह क्या है।

फरेंसिक विभाग भी कर रहा जांच
पुलिस के अलावा बुधवार को फरेंसिक विभाग की टीमों ने भी घटनास्थल की जांच की है। साथ ही अश्विनी कुमार का पोस्टमॉर्टम भी कराया गया है। हिमाचल के सिरमौर निवासी अश्विनी कुमार 1973 बैच के आईपीएस ऑफिसर थे। हिमाचल प्रदेश के डीजीपी, सीबीआई के डायरेक्टर समेत कई पदों पर उन्होंने काबिलियत का लोहा मनवाया।

हिमाचल पुलिस में डीजीपी रहते किए कई बड़े सुधार
अश्विनी ने साल 2006 में हिमाचल प्रदेश पुलिस के डीजीपी का चार्ज लेने के बाद यहां कई सुधार किए। हिमाचल पुलिस के डिजिटलीकरण और थाना स्तर पर कम्प्यूटर के उपयोग की शुरुआत उन्होंने ही करवाई। अश्विनी कुमार को जुलाई 2008 में सीबीआई डायरेक्टर बनाया गया था। अश्विनी सीबीआई डायरेक्टर बनने वाले हिमाचल प्रदेश के पहले पुलिस अफसर थे। मई 2013 में तत्कालीन यूपीए सरकार ने उन्हें पहले नगालैंड का गवर्नर बनाया और फिर जुलाई 2013 में ही उन्हें मणिपुर का गवर्नर भी बना दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close