लाइफ स्टाइलहेल्थ एंड ब्यूटी

अपनी डाइट में बदलाव कर बढ़ाएं विटामिन डी का स्तर

विटामिन डी का शरीर को सेहतमंद रखने में बड़ा महत्व है। विटामिन डी मछली, पनीर, अंडे, लिवर ऑयल में पाया जाता है। इसी के साथ विटामिन डी का सबसे बड़ा और मुख्य स्त्रोत सूरज है। रोजाना कुछ समय के लिए धूप में बैठने से भी आपके शरीर को विटामिन डी मिलता है। यह हड्डियों को मजबूत रखने के साथ-साथ इम्युनिटी सिस्टम को भी मजबूत बनाए रखता है।

अब जब पूरी दुनिया में कोरोना वायरस की वजह से हाहाकार मचा हुआ है, तब अपनी इम्युनिटी को स्ट्रांग रखना पहले से कहीं ज्यादा जरूरी हो गया है। कोरोना के मरीजों को भी विटामिन डी की गोलियां लेने की सलाह दी जाती है। अभी तक आईं कई स्टडीज में यह कहा गया है कि विटामिन डी की कमी होने पर कोरोना लगने का खतरा बढ़ जाता है। आपको बता दें, विटामिन डी वायरस को रोकने के साथ-साथ शरीर में मौजूद सेल्स की लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है।

विटामिन डी की कमी से होते हैं ये नुकसान
भारतीयों में भी बड़ी संख्या में विटमिन डी की कमी पाई गई है। इससे हड्डियां कमजोर होने के साथ-साथ फ्रेक्चर होने का खतरा भी रहता है। इससे शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता कमजोर रहती है, कैंसर का खतरा अधिक रहता है और हाइपरटेंशन, डायबिटीज जैसे रोगों का खतरा भी बना रहता है।

घर पर ही कैसे शरीर में विटामिन डी की कमी को करें पूरा
– सही डाइट और धूप यानी सूरज में रहने से इसकी कमी को पूरा किया जा सकता है। कहा जाता है कि शरीर को रोजाना 600 UI विटामिन डी की जरूरत होती है। अगर आप बाहर नहीं जा सकते तो इस तरह घर बैठे विटामिन डी की कमी को खत्म करें।
– रोजाना धूप में अपने हाथ, पैरों और चेहरे को 30 मिनट के लिए सूरज की रोशनी दिखाएं। आप ऐसा सुबह 10 से दिन में 3 बजे के बीच में करें। आप अपनी बालकनी या छत पर बैठ कर ऐसा कर सकते हैं।
– अपने डाइट में मछली जैसे – साल्मन , टूना आदि शामिल करें। आप नाश्ते में अंडे की जर्दी, दूध, ऑरेंज जूस, मशरूम सलाद, अनाज को शामिल करें।
– अगर आप मछली नहीं खाते तो आप रोजाना एक चम्मच लिवर ऑयल ले सकते हैं। एक चम्मच लिवर ऑयल आपके शरीर की विटामिन डी की रोजाना की जरूरत को 56 प्रतिशत के करीब पूरा कर देता है।
– वेगन लोगों को इसकी कमी होने की आशंका अधिक है। अगर आप वेगन हैं तो सोया दूध, बादाम दूध आदि का विकल्प अपना सकते हैं।
– ध्यान रहे, विटामिन डी को जरूरत से अधिक भी न ले लें। इससे किडनी डैमेज होने का खतरा रहता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close