देश

अब Y-नाला से PP-14 पहुंचने का रास्ता किया ब्लॉक

 
नई दिल्ली

ड्रैगन चीन आखिर बॉर्डर पर चाहता क्या है? एक तरफ वह बातचीत से सीमा विवाद को हल करने की बात कर रहा है लेकिन दूसरी ही तरफ उसकी सेना ऐसी हरकतें कर रही है जिससे विवाद बढ़ता ही जाएगा। अब चीन ने एक ऐसी नई चाल चली है जिससे भारतीय सेना का पेट्रोल पॉइंट 14 (PP-14) तक पहुंचना मुश्किल हो जाए। दूसरी तरफ ईस्ट लद्दाख के गांववालों ने चीनी चाल के बारे में बताया है। गांववाले कहते हैं कि पैंगांग झील के पास चीनी निर्माण तेजी से जारी है। मिली जानकारी के मुताबिक, चीन ने गलवान घाटी में जो नई पोस्ट और इन्फ्रास्ट्रक्चर बनाया है उससे भारतीय सेना को दिक्कतें होंगी। चीनी सेना ने यह नया निर्माण गलवान और श्योक नदी के मिलने वाले पॉइंट के पास किया है। उस पॉइंट की शेप इंग्लिश के Y जैसी है इसलिए इसे Y-नाला भी कहा जा रहा।

 
PP-14 तक का रास्ता किया ब्लॉक
चीन की सेना ने यह निर्माण बहुत तेजी से किया है। इसमें सेना के लिए रहने की जगह, बाकी इन्फ्रास्ट्रक्चर आदि बनाया गया है। इस चीनी निर्माण का मतलब है कि करीब एक किलोमीटर का रास्ता जो पैदल पीपी-14 तक जाता है, जिसपर कई दशकों से भारतीय सेना पट्रोलिंग करती रही है उसपर जाना हो सकता है आनेवाले वक्त में मुमकिन न हो। जहां बातचीत के बाद चीनी सेना (PLA) कई पॉइंट्स से अपनी सेना हटा रही है वहीं अभी वाई-नाला में उसके सैनिक डटे हुए हैं।

रात में साफ दिखता है सड़क निर्माण, चीनी सैनिक
गलवान के आसपास रहनेवाले गांव के लोगों से हमारे सहयोगी अखबार इकनॉमिक टाइम्स ने बात की। गांववालों ने बताया कि चीनी सेना सिर्फ गलवान नहीं पैंगांग झील के पास फिंगर एरिया में भी तैनात हैं। गांववाले बताते हैं कि रात में अपनी तरफ से भी चीनी कैंप और वहां हो रहा सड़क निर्माण आसानी से देखा जा सकता है।

हालात सामान्य होने में लगेगा वक्त
बॉर्डर की हलचल से वाकिफ सूत्रों ने बताया कि ऐसे में हालात सामान्य होने में वक्त लग सकता है क्योंकि चीन एक जगह से सैनिक हटाकर दूसरी जगह तैनात कर दे रहा है। पैंगांग झील के पास से भी चीन ने सेना अबतक नहीं हटाई है। ईस्ट लद्दाख से बीजेपी पार्षद ताशी नामग्याल यह भी दावा कर चुके हैं कि कल्लत, मान और मरक के लोगों ने देखा है कि चीनी सैनिक नावों में बैठकर फिंगर 4 एरिया की तरफ आए हैं। गांववालों का कहना है कि उन्होंने (चीन) फिंगर 4 तक सड़क भी बना ली है।
 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close