बिहारराज्य

अलार्म टोन बजते ही वज्रपात की मिलेगी जानकारी, इस ऐप को डाउनलोड करें

 सासाराम 
आपदा प्रबंधन विभाग ने वज्रपात से बचाव के लिए ऐप जारी किया है। इस ऐप के माध्यम से ठनका गिरने के पूर्व लोगों जानकारी मिलेगी। इससे वह बचाव कर सकेंगे। शुक्रवार को रोहतास के जिलाधिकारी पंकज दीक्षित ने कलेक्ट्रेट स्थित अपने कक्ष में प्रेस वार्ता करके इन्द्रवज्र मोबाइल ऐप की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि ठनका से बचाव के लिए पूर्व चेतावनी देने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग ने यह  ऐप का निर्माण कराया है। इसका नाम इन्द्रवज्र है। इस मोबाइल ऐप से लगभग 20 से 25 किलोमीटर की परिधि में ठनका गिरने की स्थिति में करीब 40-45 मिनट पूर्व अलार्म टोन बजेगा। चेतावनी संदेश प्राप्त होने लगेगा। उन्होंने कहा कि कंट्रोल रूम के माध्यम से भी इस ऐप के माध्यम से ठनका गिरने की सूचना संबंधित मुखिया को दी जाएगी। 

डीएम ने ठनका से बचाव के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यदि आप खुले में हो तो शीघ्र ही किसी पक्के मकान में शरण लें। सफर के दौरान अपने वाहन में ही बने रहेंगे। समूह अथवा भीड़-भाड़ में खड़े नहीं हो। अलग-अलग खड़े रहें। जंगल में हो तो बौने एवं घने पेड़ों की शरण में चले जाएं। धातु से बने कृषि यंत्र-डंडा अपने से दूर रखे। खेत-खलिहान में काम कर रहे हों और किसी सुरक्षित स्थान की शरण न ले जाए हों तो, जहां हैं वहीं पर रहें। पैरों के नीचे सूखी चीजें जैसे लकड़ी, प्लास्टिक, बोरा या सूखे पत्ते रख लें। इसके अलावा घर में हो तो पानी का नल, फ्रिज, टेलीफोन को न स्पर्श करें। बिजली एवं टेलीफोन के खंभा के नीचे शरण नहीं लें। 

गरीब कल्याण योजना पर चल रहा काम
डीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना पर भी कार्रवाई चल रही है। जिले के 12 विभागों में इस योजना पर काम  चल रहा है। इसके तहत करीब 25 योजनाओं पर क्रियान्वयन किया जा रहा है। आंगनबाड़ी केन्द्र, पंचायत सरकार भवन के अलावा जल जीवन हरियाली अभियान के तहत भी कार्रवाई चल रही है। प्रधानमंत्री कल्याण ग्ररीब योजना की राशि इसी में भेजी जा रही है।

निर्वाचन पर भी चल रहा  काम
बिहार विधान सभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी गई है। मतदाता सूची से वंचित लोगों का नाम वोटर लिस्ट में नाम जोड़ने की कार्रवाई की जा रही है। बीएलओ व बीएलए बूथ स्तर पर जांच कर रहे हैं। जिले में करीब 82 हजार प्रवासी मजदूर आए हैं। जो प्रवासी का नाम वोटर लिस्ट में नहीं है और वे नाम जोड़ना चाहते हैं, तो उनका भी नाम जोड़ा जाएगा। जो आवेदन आ रहे हैं, उसकी जांच करके निष्पादित किया जा रहा है। मौके पर डीपीआरओ प्रेमकांत सूर्य उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close