बिज़नेस

अलीबाबा को जैक मा की एक झलक से 58 अरब डॉलर का फायदा

नई दिल्ली
चीन के दिग्गज उद्योगपति जैक मा (Jack Ma) लंबे समय बाद बुधवार को सार्वजनिक रूप से दिखाई दिए। उनका एक मिनट से भी कम समय का वीडियो सामने आया और इस दौरान उन्होंने चीन की सरकार के बारे में कुछ नहीं कहा। चीन सरकार की कार्रवाई से उनका बिजनस संकट में आ गया था। लेकिन महीनों से मा की एक झलक पाने को बेताब निवेशकों में उत्साह भरने के लिए यह काफी था। मा ने बुधवार को एक लाइव स्ट्रीमिंग वीडियो कॉन्फ्रेंस में शिरकत की। बस फिर क्या था अलीबाबा ग्रुप होल़्डिंग लिमिटेड की मार्केट वैल्यू एक ही दिन में 58 अरब डॉलर बढ़ गई। मा पिछले साल के आखिर से गायब थे और उनके बारे में कई तरह की अटकलें लगाई जा रही थीं। चीन से सबसे फेमस बिजनसमैन के भविष्य के बारे में अभी ज्यादा कुछ साफ नहीं है।

लेकिन विश्लेषकों का कहना है कि बुधवार का वीडियो इस बात का संकेत है कि मा के जेल जाने या सरकार के उनकी कंपनियों को टेकओवर करने की आशंका खत्म हो गई है। मा ने सरकार की मंजूरी से ही इस कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लिया होगा। सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने भी उनके बारे में स्टोरीज चलाई थी। मा के सामने आने के बाद अलीबाबा के शेयरों में बुधवार को 8.5 फीसदी की तेजी आई और अलीबाबा का मार्केट कैप 58 अरब डॉलर बढ़ गया। चाइनीज यूनिवर्सिटी ऑफ हॉन्गकॉन्ग के प्रोफेसर फेंग केचेंग ने कहा कि सरकार के अगले कदम को लेकर कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। लेकिन मा के वीडियो से साफ है कि उनकी स्थिति आशंकाओं से काफी बेहतर है। जैक मा ने देश के 'सूदखोर' वित्‍तीय नियामकों और सरकारी बैंकों की पिछले साल अक्‍टूबर में कड़ी आलोचना की थी। इस आलोचना के बाद से ही जैक मा के लिए लिए मुश्किलें खड़ी होने लगी थीं। पिछले दो महीने से वह गायब हैं जिससे शी जिनपिंग सरकार पर सवाल उठने लगे थे। दुनियाभर में करोड़ों लोगों के आदर्श रहे जैक मा ने सरकार से आह्वान किया था कि ऐसे सिस्‍टम में बदलाव किया जाए जो 'बिजनस में नई चीजें शुरू करने के प्रयास को दबाने' का प्रयास करे। उन्‍होंने वैश्विक बैंकिंग नियमों को 'बुजुर्गों लोगों का क्‍लब' करार दिया था। इस भाषण के बाद चीन की सत्‍तारूढ़ कम्‍युनिस्‍ट पार्टी भड़क उठी। इसके बाद मा के बिजनस के खिलाफ असाधारण प्रतिबंध लगाया जाना शुरू कर दिया गया।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close