भोपालमध्यप्रदेश

अवैध रेत का उत्खन्न करते हुऐ झागर और ढिमरोली में मिली पनडुब्बीया

सिरोंज
नदियो को रेत उत्खन्न कर्ताओ के द्वारा छल्लनी करने का काम किया जा रहा है। इसकी वजह से नदियो का स्वरूप भी नष्ठ हो रहा है। अवैध उत्खन्न कर्ताओ के द्वारा चोरी छिपे या स्थानीय पुलिस प्रषासन और खनिज विभाग के अधिकारियो से साठगाठ करके नियम विरूद्ध कामो को अंजाम दिया जा रहा है। इसकी वजह से सरकार को लाखो रुपए की राजस्व की चपत लगाने का काम भी किया जा रहा है। इसी तरह का काम झागर और ढिमरौली की नदी में पनडुब्बीया लगाकर बडे पैमाने पर रेत निकालने का काम किया जा रहा था।

जानकारी लगने पर एसडीएम कुमार ष्षानू देवडिया ने छापामार कार्रवाई करते हुऐ नदियो के घाटो से तीन पनडुुब्बिया जप्त की गई। झागर के घाट पर मिली दो पनडुब्बियो को एसडीएम ने अपनी मौजूदगी में मौके पर ही नष्ट करवाया। वही ढिमरौली की नदी पर मिली पनडुब्बी पानी के ज्यादा अंदर होने के कारण उसको नष्ट नही करवाया गया। पर उसको जप्त करने का काम किया गया। जब उत्खन्न कर्ताओ को कार्रवाई की भनक लगी तो वह मौके से पहले ही भाग गये। जिसके चलते अधिकारियो को यह जानकारी नही मिली की यह किन लोगो के द्वारा इन पनडुब्बियो को चलवाया जा रहा था। एसडीएम ष्षानू देवडिया और नायब तहसीलदार रामेष्वर दांगी ने ग्रामीणो से भी रेत के बारे में जानकारी मांगी तो ग्रामीणो के द्वारा कोई जानकारी नही दी गई।

नायब तहसीलदार ने बताया कि दो पनडुब्बियो को नष्ठ कर दिया गया। एक पनडुब्बी ज्यादा अंदर होने के कारण नष्ट नही कर पाये उसको जप्त करने की कार्रवाई की गई है। किन लोगो के द्वारा इन पनडुब्बियो का संचालन किया जा रहा था। उनकी जानकारी भी एकत्रित की जा रही है। उसके बाद सम्बंधित के खिलाफ कार्रवाई भी की जायेगी। जानकारी के अनुसार बडे स्तर पर लम्बे से अवैधरूप से रेत निकालने का काम किया जा रहा था। क्योकि जिस नदी की लीज भी मिल जाती है। इसके बाद भी पनडुब्बी लगाकर रेत नही निकाल सकते है। यहा पर तो एक और दो पनडुब्बी लगाकर रेत निकाली जा रही थी। इन लोगो के द्वारा पिछले कई दिनो से लाखो रुपए की रेत निकालकर बैचने का काम किया जा रहा था।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close