उत्तर प्रदेशराज्य

आतंकी मुस्तकीम की पत्नी के बयान ने एटीएस को चौंकाया, कैसे आका बनने की कर रहा था तैयारी

 लखनऊ 
दिल्ली से गिरफ्तार मुस्तकीम के बारे में पता चला कि वह बलरामपुर के उतरौला क्षेत्र स्थित अपने गांव में रहकर ही किसी आतंकी घटना के लिए सामान तक जुटाने लगा था। खुफिया एजेंसियों के इनपुट पर दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल हरकत में आई तो किसी बड़ी घटना को अंजाम देने से पहले ही वह दबोच लिया गया। मुस्तकीम भी सोशल मीडिया के जरिए फैलाए जाने वाले जेहादी विचारों के प्रभाव में आकर आतंक के रास्ते पर चल पड़ा। वह बिना किसी बाहरी मदद के अपने निजी संसाधनों से ही आतंक का सामान जुटाने लगा था। खुद उसकी पत्नी के बयान ने एटीएस को चौंका दिया था। 

सोशल मीडिया की सूचनाओं से गुमराह होकर आतंक के रास्ते पर चल पड़ने की बढ़ती घटनाओं ने प्रदेश पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) को चिंता में डाल दिया है। बरेली के इनामुलहक और बलरामपुर के मुहम्मद मुस्तकीम के पकड़े जाने के बाद एटीएस को सोशल मीडिया पर निगरानी और बढ़ाने को बाध्य होना पड़ा है। 

एटीएस के अफसरों का कहना है कि ‘सेल्फ रेडिकलाइज्ड’ इन युवाओं ने आतंक के रास्ते पर चलने के लिए खुद ही अपने आकाओं की तलाश की। बरेली से 18 जून को गिरफ्तार किए गए इनामुलहक के बारे में पता चला कि वह खुद ही आतंकी संगठन बनाने की कोशिश में लगा हुआ था। वह कश्मीर में सेना के आपरेशन में मारे गए जाकिर मूसा से खासा प्रभावित था और युवाओं को जेहाद के नाम पर बरगलाने के लिए टेलीग्राम ऐप का इस्तेमाल कर रहा था। बाद में उसके दो साथियों को जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार किया गया। इसमें सलमान खुर्शीद जम्मू के रामबन जिले से पकड़ा गया था, जो यूपी में बागपत स्थित एक इंस्टीट्यूट से शार्ट टर्म कोर्स कर चुका है। दोनों से पूछताछ में एटीएस को जानकारी मिली कि वे ट्रेनिंग के लिए खुद ही पाकिस्तान जाने की कोशिश में लगे हुए थे। 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close