ग्वालियरमध्यप्रदेश

आरएसएस मुख्यालय गए, इधर रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर चले जाते, थोड़ा अपराध कम हो जाता- सज्जन सिंह वर्मा

ग्वालियर
मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने बुधवार को ग्वालियर में पीछे के रास्ते सत्ता में आई बीजेपी की शिवराज सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला दिया। ग्वालियर में प्रेसवार्ता कर पूर्व मंत्री डॉ. गोविंद सिंह, सज्जन सिंह वर्मा, लाखन सिंह, जयवर्धन सिंह और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति सहित प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत ने भाजपा की शिवराज सरकार और राज्य सभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पर जमकर निशाना साधा। पूर्व मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने कहा ग्वालियर में बीजेपी का तीन दिन का मेगा शो नहीं बल्कि चूहों का शो था। पूर्व मंत्री ने कहा कि बीजेपी द्वारा ट्रांसफर उद्योग की जो बात कही जाती थी वह पूर्णतः गलत है। अगर तबादलों में भ्रष्ट्राचार के आरोप सही है तो वह प्रमाण दें। डॉ. गोविंद सिंह ने राज्य सभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधते हुए कि मैं ज्योतिरादित्य से कहना चाहता हूं, कि क्याआपके लोग हरिश्चंद्र के घर से पैदा होकर आए हैं ? तुलसी सिलावट पर भष्ट्राचार के आरोप हैं, सदस्यता अभियान पर कुछ भी बोल दो, एक कहावत है कि झूठे मर गए औलादें छोड़ गए। उन्होंने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया बताएं आपको कांग्रेस के किस नेता ने उपमुख्यमंत्री के पद देने की बात कही थी। पूर्व मंत्री ने कहा कि अगर आप टाइगर हो तो आपको सुरक्षा की क्या जरूरत है। अब ये नकली टाइगर मध्य प्रदेश में नहीं चलेंगे।

 वही पूर्व मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने बीजेपी के तीन दिवसीय सदस्यता अभियान पर चुटकी लेते हुए कहा कि बीजेपी को सदस्यों की संख्या झूठी ही बतानी थी तो 75 हजार क्यों बताई 75 लाख बताते।
 
प्रेसवार्ता में पूर्व मंत्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि 2018 का चुनाव कमलनाथ जी के चेहरे पर लड़ा गया था। कांग्रेस को लोगों ने मेंडेट दिया है, चुनाव में एससी/एसटी फैक्टर था। उन्होंने कहा कि मैं ज्योतिरादित्य से पूछना चाहता हूं, अगर आपसे सरकार बनी तो फिर आप अदने से कार्यकर्ता से कैसे हार गए।

पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया आरएसएस मुख्यालय गए, इधर रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर चले जाते,तो थोड़ा अपराध कम हो जाता। वर्मा ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया अभी तो आरएसएस के दर पर माथा टेकने गए हो, कल नड्डा, अमित शाह के घर जाओगे और गलती से मोदी ने समय दे दिया जाने कितने दर पर माथा टेकने जाओगे। उन्होने कहा कि 6 महीने बाद ग्वालियर में सिंधिया का अवतरण हुआ, उन्होनें कहा कि वह खून का रिश्ता और पीड़ियों का रिश्ता भूल गए जब लोग कोरोना से मर रहे थे तब आप क्यों नहीं आये। लेकिन पहले आप ग्वालियर श्रीमंत के रूप में आते थे  अब सिर्फ ज्योतिरादित्य सिंधिया रह गए। पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने नेहरू गांधी परिवार और सिंधिया परिवार की तुलना करते हुए कहा कि सिंधिया के कुर्ते में जेब नहीं होती।

उन्होंने कहा कि आरएसएस मुख्यालय गए, इधर रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर चले जाते, थोड़ा अपराध कम हो जाता। वर्मा ने कहा कि आप कहते हो विकास न होने की वजह से कांग्रेस से छोड़ी लेकिन कमलनाथ जी के भूतल परिवहन मंत्री रहते 4 हजार करोड़ रूपए की देवास से ग्वालियर तक की सड़क के लिए पैसा कौन लाया और भूमिपूजन शिला पर मेरा और ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम लिखा है। कमलनाथ जी जब शहरी विकास मंत्री बने तब ज्योतिरादित्य सिंधिया के संसदीय क्षेत्र की जितनी भी नगर पालिका नगर परिषदों और नगर निगम का विकास करवाया। उन्होंने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया विकास तो तुम्हारा हुआ है, मंदिर की जमीन तक नहीं छोड़ी, कुत्ते की समाधि पर भी कब्जा कर लिया। पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि सदस्यता अभियान के लिए पंडाल लगे लेकिन गणेश जी के लिए पंडाल नहीं लगने दिए।

वही पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह ने ज्योतिरादित्य सिंधिया से सवाल करते हुए जमकर निशाना साधा। जयवर्धन सिंह ने कहा कि आखिर कमलनाथ जी की क्या गलती थी जो आपने उनको दगा दिया और अपनी पार्टी से गद्दारी कर नई पार्टी में चले गए।
इस दौरान पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधते हुए कहा कि हमें जनता ने 15 साल बाद चुनकर सदन में पहुंचाया।

जनता ने बेरोजगारी, भ्रष्ट्राचार, भूखमरी अपराध से परेशान होकर आप पर विश्वास जताया। लेकिन आप पीठ दिखाकर भाग गए, जो पीठ दिखाकर भागता है रण छोड़कर भागता है, उसे गद्दार कहते हैं। उन्होंने कहा कि आजादी के इतिहास में सबसे बड़ा भ्रष्टाचार हुआ, तो उसका सरगना ग्वालियर का था, इस सरगना के नेतृत्व में यह विधायक बिक गए अगर नहीं बिके तो इन्हें मंत्री क्यों बनाया गया, इन विधायकों ने पैसा लिया। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने कहा कि हमने 26 लाख किसानों की कर्जमाफी की, मैं के.के.मिश्रा को पेनड्राइव देकर जा रहा हूं।

इसमें लिस्ट ओर फोन नम्बर हैं, पत्रकारों को बांट देना। उन्होंने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया जी  आप ने तो खुद कर्जमाफी के प्रमाण पत्र बांटे हैं अब सवाल उठाते हो, हमारी सरकार ने दो किस्तों में कर्जमाफी की और आपकी वजह से सरकार न गिरती तो तीसरी किस्त भी हम किसानों को बांटने वाले थे। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि कोरोना टेस्ट होने गुजरात जा रही है यहाँ क्यों नहीं हो रहा है टेस्ट। प्रजापति ने कहा कि अगर उनका आरएसएस परिवार है तो हमारा गांधी परिवार है।इसमे पेट क्यों दुखता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close