बॉलीवुडमनोरंजन

इंडस्ट्री कैंप्स में बंटी है और गंदी राजनीति भी है: रवीना टंडन

सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर एक और पूरा देश सदमे में है वहीं दूसरी ओर बॉलिवुड में घमासान मचा हुआ है। कंगना रनौत, शेखर कपूर सहित कई बॉलिवुड सिलेब्स ऐसे ट्वीट्स कर चुके हैं जो इंडस्ट्री के अंदर की गड़बड़ी की ओर इशारा कर रहे हैं। अब रवीना टंडन ने ट्विटर पर भड़ास निकाली है। उनका कहना है कि इंडस्ट्री कैंप्स में बंटी है और गंदी राजनीति भी है। इतना ही नहीं उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि उन्हें फिल्मों से हीरो और उनकी गर्लफ्रेंड्स ने निकलवाया।

'मीन गर्ल गैंग' से रवीना का किस ओर इशारा?
सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या कई सवाल पीछे छोड़ गई है। सोशल मीडिया पर कई लोग बॉलिवुड में नेपोटिजम और कैपिंग को इसका जिम्मेदार मान रहे हैं। इसी बीच ऐक्ट्रेस रवीना टंडन ने भी ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा, इंडस्ट्री का मीन गर्ल गैंग, कैम्प हैं, मजाक उड़ाया गया है, हीरोज, उनकी गर्लफ्रेंड्स, चमचे पत्रकारों और उनकी करियर बर्बाद करने वाली फेक मीडिया स्टोरीज ने फिल्मों से निकलवाया है। कभी-कभी करियर बर्बाद हो गए हैं। आपको बने रहने के लिए संघर्ष करना पड़ता है, फाइट बैक करना पड़ता है, कुछ सर्वाइव करते हैं कुछ नहीं।

सच बोलने पर बताया जाता है पागल
रवीना ने दूसरा ट्वीट किया है, जब आप सच बोलते हैं तो आपको झूठा, पागल, सायकॉटिक प्रचारित कर दिया जाता है। चमचे पत्रकार पेज भर-भरकर लिखते हैं और आपकी सारी मेहनत को बर्बाद कर देते हैं।

हर जगह है गंदी राजनीति
रवीना ने आगे लिखा है वह आभारी हैं इंडस्ट्री ने उन्हें जो कुछ भी दिया लेकिन कुछ लोगों की गंदी राजनीति मन खट्टा कर देती है। एक और ट्वीट में रवीना ने लिखा है, ऐसा किसी ऐसे के साथ भी हो सकता है जो इंडस्ट्री में पैदा हुआ हो, 'इनसाइडर' जैसा कि मैं सुन सकती हूं कुछ ऐंकर्स इनसाइडर/आउटसाइडर चिल्ला रहे हैं। लेकिन आप लड़ते हैं। जितना उन्होंने मुझे दबाने की कोशिश की, उतनी तेजी से मैंने फाइट बैक किया। गंदी राजनीति हर जगह होती है। उन्होंने यह भी लिखा, मुझे अपनी इंडस्ट्री से प्यार है लेकिन हां, प्रेशर काफी ज्यादा है। यहां अच्छे लोग हैं और ऐसे लोग भी हैं जो गंदा काम करते हैं। हर तरह के लोग हैं लेकिन दुनिया ऐसी ही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close