उत्तर प्रदेशराज्य

उत्तर प्रदेश और बिहार में आकाशीय बिजली ने 107 लोगों की जान ले ली

पटना/ लखनऊ
उत्तर प्रदेश और बिहार में गुरुवार को आकाशीय बिजली कहर बनकर टूटी। बिजली गिरने से बिहार में जहां 83 लोगों की जान चली गई, वहीं उत्तर प्रदेश में 24 लोगों ने बिजली की चपेट में आने के बाद दम तोड़ दिया। दोनों प्रदेशों में कुल मिलाकर 107 लोगों की आकाशीय बिजली के चलते मौत हो गई। मौसम विभाग ने तेज बारिश और आकाशीय बिजली को लेकर उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों को पहले ही चेतावनी जारी की थी। विभाग ने बताया था कि अगले 72 घंटे तक लोग बहुत जरूरत न होने पर अपने घरों से बाहर न निकलें। जानकारी के मुताबिक, बिहार के 23 जिलों में बिजली की चपेट में आने से 83 लोगों की जान गई। गोपालगंज जिले में सबसे ज्यादा 13 लोगों की मौत हुई। मधुबनी में बिजली की चपेट में आने से 8 लोगों ने जान गंवाई। भागलपुर और सीवान में 6-6 लोगों की मौत हुई।

बच्चे भी झुलसे
इसके अलावा ईस्ट चंपारण, दरभंगा और बांका में 5-5 लोगों ने आकाशीय बिजली की चपेट में आने के बाद दम तोड़ दिया। आकाशीय बिजली की चपेट में कई मासूम बच्चे और महिलाएं भी आई हैं। कई छोटे-छोटे बच्चे बुरी तरह झुलस चुके हैं। जानकारी के अनुसार, जिस दौरान तेज बारिश हुई थी, उस दौरान अधिकांश लोग अपने खेतों में गए हुए थे। आकाशीय बिजली से कई लोगों के घरों में भी भीषण आग लगी है, जिसमें कई कीमती सामान जला है।
 
बिहार में गुरुवार को हुई तेज बारिश लोगों पर कहर बनकर टूटी है। बिहार में तेज बारिश के जौरान आकाशीय बिजली गिरने से बिहार में 83 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। साथ ही कई लोग गंभीर रूप से झुलस कर घायल हो गए हैं। उत्तर बिहार सहित सूबे के कई जिलों में अभी भी लगातार बारिश हो रही है। मौसम विभाग ने पहले ही गुरुवार और शुक्रवार को मूसलाधार बारिश और वज्रपात का अलर्ट जारी कर दिया था।
इन जिलों में आफत बनकर बरसी बारिश 
बिजली की चपेट में आकर मौत का शिकार हुए लोगों में गोपालगंज के 13, मधुबनी के 8, नवादा के 8, सीवान के 6 भागलपुर के 6, पूर्वी चम्पारण के 5, दरभंगा के 5, बांका के 5, औरंगाबाद के 3,खगड़िया के 3, किशनगंज के 2, पश्चिम चम्पारण के 2,जहानाबाद के 2, सीतामढ़ी के 2. जमुई के 2,पूर्णिया के 2, सुपौल के 2, कैमूर के 2, बक्सर के 2, समस्तीपुर के 1, शिवहर के 1, सारण के 1 और मधेपुरा के 1 लोग शामल हैं।
बच्चों और महिलाओं की दर्दनाक मौत
आकाशीय बिजली की चपेट में कई मासूम बच्चे और महिलाएं भी आई हैं। कई छोटे-छोटे बच्चे बुरी तरह झुलस चुके हैं। जानकारी के अनुसार, जिस दौरान तेज बारिश हुई थी, उस दौरान अधिकांश लोग अपने खेतों में गए हुए थे। आकाशीय बिजली से कई लोगों के घरों में भी भीषण आग लगी है, जिसमें कई कीमती सामान जला है।
​आकाशीय बिजली के कहर से बचने के उपाय
मौसम विभाग ने 26 जून तक बिहार के 18 जिलों के लिए भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। बिहार आपदा विभाग की ओर से किसी भी आपदा से निपटने के लिए अपनी तैयारी कर ली गई है। वहीं, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ भी किसी भी स्थिति से निपटने के लिए अलर्ट मोड पर है। एक्सपर्ट के अनुसार, भारी बारिश के दौरान घर से निकलने से बाहर नहीं निकला चाहिए। अगर घर से बाहर हैं तो बारिश से बचने के लिए किसी पेड़ के नीचे ना ठहरें। अगर आसमान में बिजली कड़क रही हो तो घर के इलेक्ट्रानिक उपकरण बंद कर दें। बिजली चमकते समय मोबाइल का इस्तेमाल भी खतरनाक साबित हो सकता है।

यूपी में 24 लोगों की गई जान
उत्तर प्रदेश में भी आसमानी आफत से 24 लोगों की जान चली गई। इनमें सबसे ज्यादा देवरिया में 9 लोगों की मौत हुई। इसके अलावा प्रयागराज में 6, अंबेडकरनगर में तीन और बाराबंकी मं दो लोगों की जान गई।

बिजली के कहर से कैसे बचें?
मौसम विभाग ने 26 जून तक बिहार के 18 जिलों के लिए भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। एक्सपर्ट बताते हैं कि भारी बारिश के दौरान घर से निकलने से बाहर नहीं निकला चाहिए। अगर घर से बाहर हैं तो बारिश से बचने के लिए किसी पेड़ के नीचे ना ठहरें। अगर आसमान में बिजली कड़क रही हो तो घर के इलेक्ट्रानिक उपकरण बंद कर दें। बिजली चमकते समय मोबाइल का इस्तेमाल भी खतरनाक साबित हो सकता है।
 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close