देश

उत्तर भारत में तेज हवा-बारिश से पारा गिरा, दिल्ली-एनसीआर में मानसून आने तक रुक-रुककर बारिश होगी

नई दिल्ली
दिल्ली-एनसीआर, बिहसा समेत उत्तर भारत के कई राज्यों में शनिवार को तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। इससे तापमान में गिरावट दर्ज की गई और कई दिनों से उमस भरी गर्मी से लोगों को बड़ी राहत मिली। मौसम वैज्ञानिकों ने दिल्ली में मानसून आने तक रुक-रुककर बारिश होने का अनुमान जताया है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि यह बारिश पाकिस्तान से असम तक बने कम दबाव के क्षेत्र का परिणाम हैं। उत्तर पाकिस्तान और जम्मू कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ भी सक्रिय है।बारिश से क्षेत्र में पारा गिरेगा। अधिकतम तापमान अगले चार-पांच दिनों में 35 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने का अनुमान है। स्काईमेट वेदर के मुताबिक 24-25 जून के आसपास मानसून आने तक बारिश जारी रहेगी। दिल्ली-एनसीआर में कुछ दिनों के लिए सुबह-शाम हल्की बारिश हो सकती है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि अगले दो से तीन दिनों में मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कुछ और हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियाँ अनुकूल होती जा रही हैं। मौसम विभाग के अनुसार, मानसून 24-25 जून के आसपास दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में दस्तक देगा।

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, पश्चिम बंगाल और आसपास के क्षेत्रों में चक्रवाती परिसंचरण और 19 जून और 20 जून को दक्षिण-पश्चिम मानसून के उत्तर प्रदेश की ओर बढ़ने के कारण दिल्ली में 27 जून की उसकी सामान्य तिथि से दो-तीन दिन पहले मानसून पहुंचने की संभावना है। पड़ोसी राज्य हरियाणा और पंजाब में अधिकतम तापमान सामान्य सीमा के करीब रहा। मौसम विभाग के अनुसार, हरियाणा में नारनौल का तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 39.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

पंजाब के अमृतसर, लुधियाना और पटियाला में अधिकतम तापमान क्रमश: 39, 38.1 और 38.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी, चंडीगढ़ में अधिकतम तापमान 36.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य सीमा से एक डिग्री कम है। राजस्थान में भी तेज गर्मी का दौर जारी रहा जब अधिकतम तापमान श्रीगंगानगर में 43.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। राज्य के ज्यादातर हिस्सों में कई दिनों से तेज गर्मी एवं उमस से आम जनजीवन प्रभावित है।

मौसम विभाग के अनुसार शनिवार को श्रीगंगानगर में पारा 43.0 डिग्री सेल्सियस तक गया। इसके अलावा बीकानेर में यह 42.5 डिग्री, चुरू में 41.9 डिग्री, जैसलमेर में 41.1 डिग्री, जोधपुर में 40.2 डिग्री, कोटा में 40.2 डिग्री, जयपुर में 40 डिग्री, बाडमेर में 39.9 डिग्री तथा अजमेर में 39.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दिनों में लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत मिल सकती है।

मौसम विभाग ने हिमाचल प्रदेश में अगले सप्ताह आंधी-तूफान और बारिश आने का अनुमान जताया है। शिमला स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा कि अगले सप्ताह निचले, मध्यम पहाड़ी क्षेत्रों में बारिश होने और ऊंची पहाड़ियों में हिमपात होने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि 22 से 24 जून तक मध्यम ऊंचाई वाले पहाड़ी क्षेत्रों और 23 से 24 जून के बीच मैदानी इलाकों में तेज हवाएं चलने के साथ बारिश आने की संभावना है। इस बीच, पहाड़ी राज्य में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई।

मध्यप्रदेश के विभिन्न भागों में पिछले कुछ दिनों से लगातार बारिश हो रही है, जिसके कारण प्रदेश में एक जून से लेकर अब तक 142 प्रतिशत अधिक वर्षा दर्ज की गई है। भारत मौसम विज्ञान विभाग के भोपाल केन्द्र के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक जी डी मिश्रा ने शनिवार कहा कि शनिवार को भी प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में बारिश हो रही है और रविवार सुबह तक भोपाल एवं होशंगाबाद संभागों के जिलों तथा सीधी, सिंगरौली, रीवा, मंडला एवं बालाघाट जिलों में कहीं-कहीं पर भारी वर्षा हो सकती है।

मिश्रा ने बताया कि ग्वालियर, भिण्ड एवं जबलपुर जिलों को छोड़कर राज्य के बाकी जिलों में एक जून से 20 जून के बीच औसत से अधिक बारिश हुई है। एक जून से अब तक मध्यप्रदेश में 131.7 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में एक जून से 20 जून तक सामान्यत: 54.5 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जाती है लेकिन इस बार 142 प्रतिशत अधिक बारिश हुई। मिश्रा ने बताया कि ग्वालियर में इस अवधि में सामान्यत: 30.2 मिलीमीटर बारिश होती है, लेकिन एक जून से अब तक केवल 16.9 मिलीमीटर बारिश ही दर्ज की गई है।

उन्होंने कहा कि इसी तरह से भिण्ड एवं जबलपुर जिलों में भी इस अवधि में होने वाली बारिश से कम वर्षा दर्ज की गई है। आईएमडी ने अपने अखिल भारतीय मौसम रिपोर्ट और पूर्वानुमान बुलेटिन में कहा, अगले चार से पांच दिनों के दौरान पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत में भारी वर्षा होने की संभावना है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close