देश

कल शाम आई थी शहादत की खबर, आज सुबह जवान ने फोन कर बताया-मैं सलामत हूं

छपरा
कल शाम तक जिस घर में अपने सपूत के शहादत की खबर के बाद कोहराम मच गया था। लेकिन आज सुबह उसी घर में फिर से खुशियां लौट आई हैं। छपरा का लाल सुनील राय सीमा पर शहीद नहीं हुआ बल्कि सही सलामत है।

सुनील ने खुद घर फोन करके दी खबर
छपरा के लाल सुनील राय के जिंदा होने (india martyr) की खबर आई है। सुनील राय के बारे में पहले खबर आई थी कि भारत-चीन सीमा (indo china border) पर दुश्मनों से लड़ते हुए शहीद हो गया।लेकिन अब खबर आई है कि सुनील पूरी तरह ठीक है और उन्होंने अपने परिजनों से फोन के जरिए बात भी की है। सेना के अधिकारियों ने परिवार से बात करते हुए बताया है कि गलतफहमी के कारण ठीक जानकारी नहीं मिली। लद्दाख में सुनील पूरी तरह ठीक है जिसके बाद छपरा के परसा गांव में मातम का माहौल फिर से खुशी में तब्दील हो गया है। सुनील के भाई मिथिलेश राय ने फोन पर बात करने के बाद मीडिया को बताया कि उनके भाई पूरी तरह ठीक है और अधिकारियों ने कहा है कि गलतफहमी के कारण या गलत सूचना की वजह से ये सब हुआ और इसके लिए खेद भी जताया गया है।

चीन से बदले की तैयारी में भारत
लद्दाख के गलवान इलाके में भारत और चीन की सेना के बीच खूनी संघर्ष में भारत में 20 सैनिक शहीद हो गए। चीन के इस धोखे के बाद पूरे देश में गुस्से का माहौल है। भारत ने अभीतक इस मामले पर सधी प्रतिक्रिया दी है। लेकिन नई दिल्ली अपने सैनिकों की शहादत का बदला लेने की पूरी तैयारी कर रहा है। सूत्रों के मुताबिक पेइचिंग की इस हिमाकत का बदला भारत बड़ी तैयारी के साथ लेने वाला है।

चीन ने फिर दिया है धोखा
1962 के बाद भारत और चीन के बीच सबसे बड़े खूनी संघर्ष के बाद दोनों देशों के संबंध बेहद नाजुक स्थिति में पहुंच गए हैं। चीन के धोखे का जवाब देने के लिए भारत बड़ी तैयारी कर रहा है। भारत सैन्य से ज्यादा चीन को आर्थिक मोर्चे पर घेरने की तैयारी कर रहा है। ड्रैगन को घेरने के लिए भारत ने पूरी बिसात बिछा ली है। क्षेत्रीय से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पेइचिंग को अलग-थलग करने की तैयारी।

UN में चीन को अलग-थलग करेगा भारत
दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। ऐसे में नरेंद्र मोदी सरकार पेइचिंग को कोई मोर्चे पर घेरने की रणनीति पर काम कर ही है। संयुक्त राष्ट्र में चीन को अलग-थलग करने के लिए नई योजना पर काम कर रहा है।

आर्थिक मोर्चे पर भारत यूं देगा चीन को मात
अभीतक चीनी निवेश प्रस्ताव को तेजी से इजाजत दे रहा भारत अब इस रणनीति को धीमा करेगा। खबरों के मुताबिक सरकार चीन को भारत के मार्केट में बड़ा झटका देने की तैयारी कर चुकी है। चीनी कंपनियों को अब सरकारी या निजी क्षेत्र में जल्द कोई अनुबंध नहीं मिलने वाला है।

मोबाइल कंपनियों को भी लगेगा झटका
सबसे खास बात ये है कि चीन की बड़ी मोबाइल कंपनी हुवेई को भारत के 5जी मार्केट में एंट्री की अनुमति मिलने की उम्मीद लगभग खत्म हो गई है।

जानें गलवान घाटी में क्या हुआ था...
सोमवार सुबह ब्रिगेड कमांडर लेवल के साथ लोकल कमांडर लेवल की मीटिंग हुई। कमांडिंग अफसर (कर्नल) ने चीन के लोकल कमांडर से बात की। शाम को भारतीय सेना के ऑफिसर टीम के साथ गलवान वैली में पीपी-14 पहुंचे जहां से चीनी सैनिकों को पीछे हटना था। ऐसा बातचीत में तय हुआ था। तब वहां 10-12 चीनी सैनिक थे। अचानक बहुत से सैनिक आए। भारतीय ऑफिसर और उनके दो जवानों पर पत्थरों और लोहे की रॉड से हमला बोल दिया। भारतीय सैनिक चौंक गए और इसका जवाब दिया गया। भारी संख्या में भारतीय सैनिक भी उस पॉइंट पर पहुंचे और आधी रात तक हिंसक झड़प चलती रही। इस घटना में भारत के 20 जवान शहीद हो गए जबकि चीन के 43 सैनिकों के मारे जाने की खबर है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close