उत्तर प्रदेशराज्य

कोरोना काल में आगरा के लोगों को राहत, नहीं बढ़ेगा हाउस और कॉरपोरेट टैक्स

आगरा
कोरोना संक्रमण के कारण हुए लॉकडाउन के बाद आगरा में पहली बार हुई नगर निगम कार्यकारिणी समिति की बैठक में हाउस टैक्स और कॉरपोरेट टैक्स की दरों को बढ़ाने का प्रस्ताव खारिज कर दिया गया। प्रस्ताव खारिज होने के बाद 3.20 लाख लोगों पर टैक्स का बोझ और नहीं बढ़ेगा।

नगर निगम के अधिकारियों ने टैक्स दर बढ़ाने का प्रस्ताव रखा था, लेकिन कार्यकारिणी ने तय किया कि लॉक डाउन के कारण लोगों के व्यापार, रोजगार प्रभावित हुए हैं, ऐसे में टैक्स दरों को बढ़ाना ठीक नहीं है।

शुक्रवार को आगरा नगर निगम में कार्यकारिणी समिति के 12वें अधिवेशन की बैठक सोशल डिस्टेंसिंग के कारण सदन कक्ष में हुई। सबसे पहले अधिकारियों ने हाउस टैक्स और कॉरपोरेट टैक्स की दरों को बढ़ाने को लेकर प्रस्ताव रखा।

मेयर नवीन जैन ने किसी भी तरह का टैक्स बढ़ाने के लिए मना कर दिया। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में हम टैक्स बढ़ाकर लोगों पर उनकी मुश्किलों को और नहीं बढ़ा सकते। इसलिए टैक्स दरों को नहीं बढ़ाएंगे। पार्षदों ने मेयर का समर्थन किया।

12वें अधिवेशन की बैठक में 11वीं अधिवेशन के कार्यवृत्त की पुष्टि की गई। उसके बाद आगरा में चलने वाली 100 इलेक्ट्रिक बस योजना के चार्जिंग डिपो के लिए नारायच क्षेत्र की खाली जमीन आगरा-मथुरा सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लिमिटेड को सशर्त दिए जाने का प्रस्ताव रखा गया जिसे पास कर दिया गया।

स्मार्ट सिटी के तहत पीपीपी मॉडल पर बन रहे 10 स्मार्ट हेल्थ सेंटर में एक एमजी रोड पर बन चुका है। बाकी तीन जगह सेंट्रल पार्क आवास विकास, खंदारी चौराहा के पास हनुमान मंदिर के सामने और महिला अस्पताल जीवनी मंडी परिसर में निर्माणाधीन है।

छह जगहों के लिए जमीन तय कर निर्मित स्थल के सापेक्ष भूमि आवंटित करने और वार्षिक शुल्क निर्धारण करने के लिए प्रस्ताव रखा गया जिसे सर्वसम्मति से पास किया गया। ट्रांस यमुना गोयल हॉस्पिटल के समीप, रामनगर की पुलिया पर, छत्ता स्वास्थ्य केंद्र, फतेहाबाद रोड/ग्वालियर रोड, कमला नगर/बलकेश्वर, अर्जुन नगर पर स्मार्ट हेल्थ सेंटर के लिए जमीन दी जाएगी।

वार्ड 45 के पार्षद राजेश प्रजापति ने पत्रकार स्व. पंकज कुलश्रेष्ठ के नाम पर अशोक नगर रोड के नामकरण का प्रस्ताव रखा। पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ की कोरोना संक्रमित होने के बाद एसएन में इलाज के दौरान 7 मई को निधन हो गया था।  

कार्यकारिणी ने इस प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पास किया और माथुर वैश्य धर्मशाला से लेकर स्वर्गीय पंकज कुलश्रेष्ठ के आवास होते हुए अशोक नगर तक उनके नाम पर सड़क का नामकरण करने की सहमति दी।

उपसभापति राधिका अग्रवाल ने फतेहाबाद रोड पर अवैध रूप से यूनीपोल और होर्डिंग लगाए जाने का मुद्दा उठाया। नीर नवीन जैन ने भी नगर निगम अधिकारियों से यह सवाल किए कि फतेहाबाद रोड पर डिवाइडर पर यूनीपोल कैसे लगा दिए गए।

महापौर ने साफ कहा कि फतेहाबाद रोड को हमने एक मॉडल रोड के रूप में विकसित किया है लेकिन वहां अंधाधुंध यूनीपोल लगाकर सुंदर छवि को बेदाग किया जा रहा है। महापौर ने निर्देश दिए कि सर्वे कराकर फतेहाबाद रोड से सभी यूनीपोल हटा दिए जाएं। जो नहीं हटाता है उस पर आवश्यक कार्रवाई की जाए और खर्चा भी उन्हीं से वसूला जाए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close