छत्तीसगढ़

खरीफ के लिए प्रमाणित बीज और उर्वरक का वितरण जारी

रायपुर
आगामी खरीफ फसलों की अच्छी पैदावार लेने के लिए प्रदेश के किसानों ने आवश्यक तैयारियां शुरू कर दी है। फसल की उपज के लिए उत्तम किस्म के प्रमाणित बीज और गुणवत्ता युक्त उर्वरक का उठाव किसान अपनी मांग एवं जरूरत के अनुसार कर रहे हैं। खेती-किसानी  और उत्पादकता में वृद्धि के लिए राज्य सरकार विभिन्न योजनाओं के माध्यम से किसानों को हर संभव मदद कर रही है। इसी कड़ी में सहकारी समितियों के माध्यम से बिलासपुर जिले के किसानों को 15 जून की स्थिति में 15 हजार 472 क्विंटल विभिन्न किस्म के धान बीज के साथ-साथ 2 क्विंटल अरहर बीज 225 क्विंटल ढेंचा और 14 हजार 260 मीट्रिक टन उर्वरक का वितरण किया गया है।

उप संचालक कृषि बिलासपुर से मिली जानकारी के अनुसार आगामी खरीफ सीजन में किसानों को प्रमाणित बीज उपलब्ध कराने के लिये बीज निगम और सेवा सहकारी समितियों में किसानों के मांग के अनुरूप विभिन्न फसलों के बीजों का भंडारण किया गया है।वर्तमान में विभिन्न सेवा सहकारी समितियों में धान बीज 21743.40 क्विंटल, अरहर 26 क्विंटल, ढेंचा 235 क्विंटल का भंडारण किया जा चुका है। धान की एमटीयू-1010, एमटीयू-1001, राजेष्वरी, पीकेवी-एचएमटी, स्वर्णा सब-1, महामाया स्वर्णा, अरहर कीराजीव लोचन, उड़द कीप्रताप-1, कुलथी की बिलासा आदि किस्में समितियों में उपलब्ध है।

उन्होंने बताया कि जिले में खरीफ 2020 के लिए निर्धारित 30625 टन उर्वरक के लक्ष्य के विरूद्ध सहकारी समिति और विपणन संघ के माध्यम से 25730 मैट्रिक टन उर्वरक का भंडारण किया जा चुका है। जिसके विरूद्ध 14260 मैट्रिक टन उर्वरक का वितरण किसानों को किया गया है। कृषि विभाग द्वारा किसानों से अनुरोध किया गया है कि मानसून प्रारंभ हो चुका है इसलिए बोनी के समय खेतों में 125 किलोग्राम सुपर फॉस्फेट और 10 किलोग्राम पोटॉष प्रति एकड़ उर्वरक का उपयोग अनिवार्य रूप से करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close