राजनीतिक

गोवा के जिला पंचायत चुनाव में भी बढ़त बना ली, अब गोवा में भी लहराएगा भगवा? 

नई दिल्ली 
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने हैदराबाद, राजस्थान में हुए चुनावों में शानदार प्रदर्शन करने के बाद गोवा के जिला पंचायत चुनाव में भी बढ़त बना ली है। गोवा में पंचायत चुनाव के नतीजे आज घोषित किए जा रहे हैं। इसके लिए राज्य भर के 15 केंद्रों पर मतगणना जारी है। शनिवार को 48 निर्वाचन क्षेत्रों में जिला पंचायत चुनाव हुए थे। राज्य में मतदान में 56.82 फीसद मतदान हुआ था। गोवा राज्य निर्वाचन आयोग (SEC) के अनुसार, उत्तरी गोवा जिले में 58.43 फीसद और दक्षिण गोवा जिले में 55 फीसद मतदान हुआ।

बीजेपी ने मतगणना के शुरुआती रुझानों में बढ़त बनाई है। पार्टी ने 21 सीटों में से 13 पर जीत दर्ज की है, जिसे अब तक कांग्रेस ने दो सीटों के साथ दूसरे स्थान पर छोड़ दिया है, जबकि निर्दलीय पांच सीटें हासिल की हैं और एक सीट महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी को मिली है।पार्टी अन्य छह सीटों पर भी आगे चल रही है, जिसके लिए मतगणना शुरू हो गई है। आम आदमी पार्टी को अपना खाता खोलना बाकी है।

चार लाख से अधिक मतदाताओं, जिनमें 2,27,916 पुरुष और 2,21,972 महिलाओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। लगभग 8 लाख लोग – 85,222 पुरुष और 4,06,592 महिलाएं – वोट देने के योग्य थे। इन चुनावों में 200 उम्मीदवारों का फैसला होना है। इस वर्ष मार्च में कोरोना महामारी शुरू होने के बाद से तटीय राज्य में जिला पंचायत चुनाव पहले बड़े चुनाव थे।

गौरतलब है कि मार्च में होने वाले इन चुनावों को लॉकडाउन के कारण स्थगित कर दिया गया था और 12 दिसंबर को आयोजित किया गया था, लेकिन महामारी के डर से काफी कम वोटिंग देखने को मिली।

भाजपा आगे चल रही है लेकिन उसने कई महत्वपूर्ण सीटें खो दी हैं। 2015 जिला पंचायत चुनावों के नतीजों की तुलना में इसबार भाजपा के खाते में सुधार दिख सकता है। तब कांग्रेस और राकांपा सहित विपक्षी दलों ने हिस्सा लेने की जगह अपने उम्मीदवारों को निर्दलीय के रूप में मैदान में उतारा था। 2015 में भाजपा ने 18, निर्दलीय ने 50 में से 25 सीटें, एमजीपी ने तब भाजपा के साथ गठबंधन में पांच सीटें जीती थीं।

 हाल में हुए ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव और राजस्थान पंचायत चुनाव में बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन किया है। हैदराबाद चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने ओवैसी की एआईएमआईएम को तगड़ा झटका दिया था। बीजेपी चुनाव में दूसरे नंबर पर रही थी, जबकि पहले नंबर पर टीआरएस और तीसरे नंबर  पर एआईएमआईएम आई थी। सीटों पर नजर डालें तो 150 वार्डों वाले नगर निगम में टीआरएस ने 55 सीटों पर जीत दर्ज की, जबकि बीजेपी ने 48 सीटें जीती थीं।, वहीं एआईएमआईएम 44 सीट जीतने में कामयाब रहा है तो कांग्रेस को दो सीटें मिली थीं। वहीं, राजस्थान के पंचायत समिति चुनाव में भी बीजेपी ने गहलोत सरकार को तगड़ा झटका दिया था। पार्टी ने राज्य में कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद भी ज्यादा बेहतर प्रदर्शन दिखाया था। 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close