ग्वालियरमध्यप्रदेश

ग्वालियर-चंबल संभाग में झमाझम बारिश, बारिश की बौछारों से सराबोर

ग्वालियर
सियासी और मौसमी पारे से तप रहे ग्वालियर-चंबल संभाग को आखिरकार राहत मिली. मंगलवार को पूरा इलाका बारिश की बौछारों से सराबोर हो गया. गर्मी और उमस से बेहाल लोगों ने बारिश का तहे दिल से स्वागत किया. इसी के साथ अब तक 40 डिग्री तापमान में तप रहे इलाके में पारा 2 से 3 डिग्री लुढ़क गया.आज भी भोपाल, ग्वालियर सहित प्रदेश के कई इलाकों में तेज बारिश के आसार हैं.भोपाल में अब तक 14.2 इंच बारिश हो चुकी है. मॉनसून प्रवेश के 10 दिन के भीतर पूरे प्रदेश में सामान्य से 111 फ़ीसदी ज़्यादा बारिश दर्ज की जा चुकी है.

गर्मी और उमस से बेहाल ग्वालियर-चंबल इलाके में मंगलवार को बारिश की झड़ी लग गयी. इलाके के लोग मॉनसून का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे.कल बारिश की झड़ी के बाद लोगों ने राहत महसूस की तो वहीं ग्वालियर में तापमान में 2 डिग्री की गिरावट भी दर्ज हुई.

मंगलवार को भोपाल समेत प्रदेश के ज्यादातर जिलों में अच्छी बारिश हुई. भोपाल में 22जून की रात से जारी बारिश ने मौसम में ठंडक घोल दी.दिन का तापमान सोमवार के मुकाबले 5.3 डिग्री लुढ़क कर 29.4 डिग्री पर पहुंच गया.भोपाल में कल सीजन का दूसरा सबसे ठंडा दिन रहा.मौसम विभाग का कहना है आज भी भोपाल, ग्वालियर सहित प्रदेश के कई इलाकों में तेज बारिश के आसार हैं.

मध्य प्रदेश के ज़्यादातर इलाकों में मंगलवार को बारिश होती रही.भोपाल में अब तक 14.2 इंच बारिश हो चुकी है. मॉनसून प्रवेश के 10 दिन के भीतर पूरे प्रदेश में सामान्य से 111 फ़ीसदी ज़्यादा बारिश हो चुकी है.

  • शाजापुर 36 मिमी
  • भोपाल सिटी 14.8 मिमी, भोपाल 2.8 मिमी
  • खजुराहो 1.2 मिमी
  • रीवा 13 मिमी
  • रायसेन 17 मिमी
  • टीकमगढ़ 17 मिमी
  • होशंगाबाद 5 मिमी
  • पचमढ़ी 08 मिमी
  • छिंदवाड़ा 0.4 मिमी
  • उमरिया 28 मिमी

प्रदेश में फिलहाल तीन सिस्टम सक्रिय हैं.एक सिस्टम उत्तरी सीमा अहमदाबाद,शाजापुर और फतेहपुर मुक्तेश्वर,रुद्रप्रयाग से होकर गुजर रही है.दूसरी तरफ ट्रफ लाइन उत्तरी राजस्थान, ग्वालियर सहित मध्यप्रदेश के उत्तरी हिस्से से होती हुई बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिमी हिस्से तक जा रही है.तीसरा सिस्टम ओडिशा,दक्षिण गुजरात के पास हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना हुआ है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close