छत्तीसगढ़

चीनी ऐप को क्यों प्रतिबंधित करना चाहिए,पक्ष रखने कैट को भी मौका दे समिति

रायपुर। केंद्र सरकार द्वारा 59  एप्लीकेशन्स को प्रतिबंधित किये जाने के मामले पर गठित उच्चस्तरीय समिति ने सरकार के इस निर्णय को फिलहाल सही ठहराते हुए उक्त 59 ऐप की कंपनियों को इस मामले में अपना पक्ष प्रस्तुत करने के लिए अवसर देना स्वीकार किया है। इस बात को ध्यान में रखते हुए कन्फेडेरशन आॅफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने आज केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद को एक पत्र भेज कर आग्रह किया है की जिस प्रकार से इन कंपनियों को अपना पक्ष रखने का मौका दिया गया है उसी प्रकार से कैट को भी समिति के समक्ष इन चीनी ऐप को क्यों प्रतिबंधित करना चाहिए पर अपना पक्ष प्रस्तुत करने का अवसर दिया जाना चाहिए क्योंकि सर्वप्रथम कैट ने ही 21 जून को केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को एक पत्र भेज कर इन चीनी ऐप को प्रतिबंधित करने की मांग की थी।  
कन्फेडरेशन आॅफ आॅल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के प्रदेश अध्यक्ष अमर परवानी, कार्यकारी अध्यक्ष मंगेलाल मालू, विक्रम सिंहदेव, महामंत्री जितेंद्र दोशी, कार्यकारी महामंत्री परमानंद जैन, कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल, एवं प्रवक्ता राजकुमार राठी ने बताया कि श्री प्रसाद को भेजे पत्र में कैट ने कहा है की सरकार द्वारा इन ऐप को प्रतिबंधित किया जाना देश की सुरक्ष के लिए बहुत जरूरी था। भारतीय न्यायिक व्यवस्था की पारदर्शिता को बरकरार रखते हुए उच्च समिति द्वारा इन ऐप कंपनियों को मौका दिया जाना न्यायोचित है किन्तु न्याय के प्राकृतिक सिद्धांत को देखते हुए कैट को भी अपना पक्ष रखने का मौका दिया जाना बहुत आवश्यक है।
श्री पारवानी ने यह भी बताया की कैट ने श्री प्रसाद को भेजे पत्र में यह भी स्मरण कराया है कि 30 जून, 2020  को कैट ने केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीथारमन को एक पत्र भेजा था और वैसा ही पत्र श्री प्रसाद को भी उस दिन भेजा गया था जिसमें यह मांग की गई थी की भारत की जिन कंपनियों में चीनी कंपनियों का निवेश है तथा जिन चीनी कंपनियों ने भारत में अपनी निर्माण इकाइयां लगाई हैं, उन दोनों वर्गों की कंपनियों की भी जांच होनी चाहिए जिससे यह पता लग सके की इन कंपनियों ने भारत का जो डाटा एकत्र किया है वो कहीं भारत से बाहर तो नहीं भेजा गया अथवा उसका कोई दुरूपयोग तो नहीं हो रहा है। इस तरह का पत्र कैट ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्री श्री पियूष गोयल को भी उस दिन भेजा था। कैट ने श्री प्रसाद से आग्रह किया है की उनकी मांग को स्वीकार कर सरकार इस जांच करने की भी घोषणा करे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close