विदेश

चीन में बाढ़: 80 साल में सबसे बड़ा जल प्रलय, बांध टूटा तो मचेगा हाहाकार 

बीजिंग
भारत के साथ सीमा पर उलझ रहे चीन के दक्षिण भाग में करोड़ों लोग भीषण बाढ़ का सामना कर रहे हैं। लगातार मूसलाधार बारिश की वजह से चीन के इस हिस्से में 80 साल का सबसे बड़ा जल प्रलय आ गया है। यहां तक कि चीन में बने दुनिया के सबसे बड़े बांध 'थ्री गोर्जेस डैम' पर भी खतरा मंडरा रहा है। यदि यह बांध टूटा तो करीब दो दर्जन राज्यों में भारी तबाही मचेगी। हालांकि, चीन सरकार का कहना है कि बांध मजबूत है और पश्चिमी देश बांध को लेकर अफवाह फैला रहे हैं।  चीन के मौसम विभाग ने यांग्त्सी नदी के मध्यम और निचले हिस्से में बाढ़ को लेकर सबसा ऊंचा अलर्ट जारी किया है। गुइजहाउ तक लोगों को चेतावनी दी गई है। मंगलवार और बुधवार (23, 24 जून) को और अधिक बारिश हो सकती है। इसके लेकर चीन के 10 राज्यों और शहरों में अलर्ट किया गया है, जिनमें गुइजहाउ, चोन्गकिंग, हुनान, हुबेई, जियांगशी, अनहुई, जियांगशु, झिजियांग, शंघाई और गुआंगशी में बाढ़ से तबाही आ सकती है। गुइजहाउ में खेतों और रिहायशी इलाकों में पानी भर चकुा है। कई इलाके पूरी तरह पानी में डूब चुके हैं। सरकार की ओर से तो कोई आंकड़ा जारी नहीं किया गया है, लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक करीब 20 लोगों की मौत हो चुकी है। चोन्गकिंग म्यूनिसिपल हाइड्रोलॉजिकल मॉनिटरिंग स्टेशन ने सोमवार (22 जून) को 80 साल में पहली बार क्विजियांग नदी में बाढ़ को लेकर अलर्ट जारी किया। बताया गया है कि अगले 8-10 घंटे में इस इलाके में भीषण बाढ़ का खतरा है।  

 

ज्यूनेई और टोंगरेन, गुइझाउ प्रातं में पिछले सप्ताह से लगातार बारिश हो रही है। इसकी वजह से बाढ़ की स्थिति है। कई जगह भूस्खलन हो रहा है तो कई रास्ते बंद हो गए हैं। अधिकतर इलाकों में संचार माध्यम ठप हो चुके हैं। लोग सोशल मीडिया पर तबाही की तस्वीरें और वीडियो पोस्ट कर रहे हैं। जिनमें दिख रहा है कि किस तरह वाहन पानी लहरों के साथ बहते चले जा रहे हैं। गुइजाउ प्रांत के मुगुआ शहर में भी स्थिति बेहद खराब है। यहां 40 साल में इतनी बड़ी बाढ़ नहीं आई थी। यहां सड़कों के ऊपर चार मीटर पानी ऊंचाई तक पानी बह रहा है।  इस बीच थ्री जॉर्ज बांध पर बड़ा खतरा मंडरा रहा है। 2003 में इस बांध के तैयार होने के बाद इसकी मजबूती की बड़ी परीक्षा हो रही है। हालांकि, कुछ विशेषज्ञों ने कहा है कि बांध के निर्माण में खामी होने की वजह से यह कभी भी ढह सकता है।  

 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close