छत्तीसगढ़

धान की अधिकतम पैदावार के लिए श्री पद्वति लोकप्रिय

रायपुर
धान बुवाई के लिए बियासी विधि तथा रोपण विधि प्रमुख है। इसके अतिरिक्त एस.आर.आई (श्री) पद्वति और कतार की बोनी भी अपनाई जा सकती है। कृषि विशेषज्ञों ने किसानों को सलाह दी है कि धान का अधिकतम पैदावार प्राप्त करने के लिए मेडागास्कर तकनीक विकसित की गई है, जो एस.आर.आई. तकनीक के नाम से लोकप्रिय हो रही है। इस पद्वति से धान की खेती करने से भूमि और पानी के कम से कम उपयोग से धान फसल की उत्पादन में अच्छी वृद्धि की जा सकती है तथा धान का विपुल उत्पादन लिया जा सकता है। इस तकनीक को अपनाने से सिंचित अवस्था में धान का औसत उत्पादन 6 से 7 टन प्रति हेक्टेयर तक ली जा सकती है।

इसी प्रकार किसान कतार बोनी के लिए कल्टीवेटर से खेती तैयार करें और सीड कम फर्टिलाइजर ड्रिल से धान की कतार बोनी की जा सकती है। धान के बीजों को 17 प्रतिशत नमक के घोल में डालकर ठोस बीजों का चुनाव करें तथा चयनित बीजों को दो बार स्वच्छ पानी से धोकर साफ सुपर 2 ग्राम प्रतिलीटर से उपचारित कर बोयें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close