भोपालमध्यप्रदेश

प्रवासी श्रमिकों के लिए जीवन का आधार बना रोजगार सेतु पोर्टल

भोपाल

प्रदेश में प्रवासी श्रमिकों को उनके कौशल एवं दक्षता के अनुसार रोजगार दिलाए जाने के लिए प्रारंभ किए गए रोजगार सेतु पोर्टल के सार्थक परिणाम सामने आने लगे हैं। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान द्वारा की गई इस पहल के माध्यम से बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों को उनके कौशल के अनुरूप स्थानीय स्तर पर कारखानों, निर्माण कार्यों तथा व्यावसायिक संस्थानों में रोजगार प्राप्त हो रहा है।

लॉकडाउन के कारण अपने घर आष्टा वापस लौटे  संजय परवाल बताते हैं कि वे छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले में ड्रायवर का काम करते थे। लेकिन लॉकडाउन के कारण उन्हें अपने निवास स्थान वापस आना पड़ा। परिवार के पालन के लिये रोजगार की तलाश थी। इसी बीच उन्हें मध्यप्रदेश शासन के रोजगार सेतु पोर्टल की जानकारी मिली। उन्होंने पोर्टल पर अपना पंजीयन करवाया। पंजीयन के कुछ दिन बाद ही उन्हें नगरपालिका आष्टा से रोजगार दिये जाने की सूचना मिली। नगरपालिका आष्टा द्वारा उन्हें लगभग 9000 रुपये मासिक वेतन पर श्रमिक के पद पर नियोजित किया गया है।

रोजगार सेतु पोर्टल के माध्यम से रोजगार पाने वाले भोपाल निवासी  सुनील ककोड़िया को दिलीप बिल्डकॉन कम्पनी में रोजगार का अवसर मिला है।  सुनील बताते हैं कि वे विगत 2 वर्षों से नासिक, महाराष्ट्र में कार्यरत थे, कोरोना संकट की परिस्थितियों के चलते लॉक डाउन होने के कारण वे वापस अपने घर आ गये। परिवार के गुजर-बसर और आजीविका के लिये उन्होंने रोजगार की तलाश शुरू कर दी। लॉकडाउन के चलते रोजगार मिलना मुश्किल हो रहा था। मध्यप्रदेश शासन द्वारा शुरू किये गये रोजगार सेतु पोर्टल की जानकारी मिलते ही,  काकुडिया ने अपना पंजीयन पोर्टल पर करवाया। पंजीयन होने के साथ ही उन्हें भोपाल में ही दिलीप बिल्डकॉन प्राइवेट संस्था में कार्य मिला।  सुनील ने बताया कि गृह नगर में ही रोजगार मिल जाने से अब उन्हें अन्य प्रदेश में कार्य के लिए जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

बी.काम के साथ इलेक्ट्रीशियन का आई.टी.आई. कोर्स करके जयपुर में इलेक्ट्रीशियन का काम कर रहे सौरभ कुमार मैथिल को भी कोरोना के चलते वापस अपने घर आना पड़ा। घ्रर वापसी के साथ ही रोजगार का संकट पैदा हो गया। अपने घर परिवार की जिम्मेदारियों को निभाना मुश्किल हो रहा था। इसी बीच संचार के विभिन्न माध्यमों से 24 वर्षीय सौरभ को रोजगार सेतु पोर्टल की जानकारी मिली। उन्हें पता चला कि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा प्रवासी मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिये विशेष पहल की गई है। उन्होंने बिना देर किए रोजगार सेतु पोर्टल का सहारा लिया। रोजगार सेतु पोर्टल की बदौलत उन्हें राजगढ़ जिले के औद्योगिक क्षेत्र पीलूखेड़ी में हिंदुस्तान पेट्रोलियम के रिफलिंग प्लांट में इलेक्ट्रिशियन बनने का मौका मिला।  सौरभ को अपने कौशल अनुरूप 15 हजार रूपये प्रतिमाह के इस रोजगार से जहां एक ओर उन्हें संतुष्टि मिली ही वहीं उनका परिवार भी काफी खुश है।

पोर्टल पर अभी तक 3,457 प्रवासी श्रमिकों को कुशल श्रमिक के रूप में रोजगार प्राप्त हुआ है तथा 9 हजार 938 श्रमिकों को कुशल रोजगार दिए जाना प्रक्रियाधीन है। अकुशल प्रवासी श्रमिकों में 3 लाख 6 हजार 956 को जॉब कार्ड उपलब्ध कराया गया है और एक लाख 31 हजार 667 प्रवासी श्रमिकों को मनरेगा के अंतर्गत कार्य दिलाया गया है।

रोजगार सेतु पोर्टल नियोक्ताओं के लिए भी उनकी आवश्यकता के अनुरूप कुशल/अकुशल श्रमिक आसानी से प्राप्त करने का प्रभावी मंच है। इस पोर्टल पर अभी तक 15 हजार 863 नियोक्ताओं ने अपना पंजीयन कराया है। इनमें 3 हजार 827 सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग, 419 वृहद् उद्योग, 5 हजार 176 ठेकेदार, 198 बिल्डर्स, 428 प्लेसमेंट एजेंसी तथा 1316 अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान हैं।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close