देश

बाबा रामदेव ने लॉन्च की कोरोना की आयुर्वेदिक दवा Coronil

हरिद्वार
योग गुरु बाबा रामदेव ने कोरोना की आयुर्वेदिक दवा बनाने का दावा करते हुए कोरोनिल नाम की दवा लॉन्च की। मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में रामदेव ने कहा कि दुनिया इसका इंतजार कर रही थी कि कोरोना वायरस की कोई दवाई निकले। उन्हें गर्व है कि कोरोना वायरस की पहली आयुर्वेदिक दवाई को तैयार कर ली गई है। पतंजलि योगपीठ के प्रमुख बाबा रामदेव ने इस दवा को लॉन्च करते हुए क्लिनिकल ट्रायल में इसके सफल परिणामों का दावा किया है।

यह दवा पतंजलि रिसर्च इंस्‍टीट्यूट और नैशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, जयपुर ने मिलकर बनाई है। कंपनी का दावा है कि 'कोरोनिल' का क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल अंतिम दोर में है। फिलहाल इसका प्रॉडक्‍शन हरिद्वार की दिव्‍य फार्मेसी और पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड कर रहे हैं। योग गुरु रामदेव ने बताया, 'हमने पहली आयुर्वेदिक क्लीनिकली कंट्रोल, रिसर्च और ट्राय बेस्ड दवाई तैयार की है। हमने एक क्लीनिकल केस स्टडी और क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल चलाया है। हमने पाया कि इससे 69 फीसदी मरीज 3 दिन में ठीक हो गए और 7 दिन में पूरी तरह से रिकवर हो गए।'

दवाइयों का कॉम्बिनेशन और कैसे खाएं
पतंजलि सीईओ के अनुसार, कोरोनिल में गिलोय, अश्‍वगंधा, तुलसी, श्‍वसारि रस और अणु तेल का मिश्रण है। उनके मुताबिक, यह दवा दिन में दो बार- सुबह और शाम को ली जा सकती है। अणुनासिका तेल भी कोरोना की दवा में शामिल। ये तीन से पांच बूंद नाक में डालने से श्वास नलिका में कोरोना के प्रभाव को खत्म कर पेट तक ले जाता है।

दवाइयों में क्या हैं गुण
पतंजलि के अनुसार, अश्‍वगंधा से कोविड-19 के रिसेप्‍टर-बाइंडिंग डोमेन (RBD) को शरीर के ऐंजियोटेंसिन-कन्‍वर्टिंग एंजाइम (ACE) से नहीं मिलने देता। यानी कोरोना इंसानी शरीर की स्‍वस्‍थ्‍य कोशिकाओं में घुस नहीं पाता। वहीं गिलोय कोरोना संक्रमण को रोकता है। तुलसी कोविड-19 के RNA पर अटैक करती है और उसे मल्‍टीप्‍लाई होने से रोकती है। बाबा रामदेव ने बताया कि ये दवा ब्लडप्रेशर, हार्ट बीट और नाड़ी को भी कंट्रोल करती है।

कोरोना किट में 3 दवाइयां
इस दौरान रामदेव ने कोरोना वायरस से जंग को तीन दवाइयां लॉन्च की हैं। बाबा रामदेव ने 'दिव्य कोरोनील टैबलेट' के सफल परीक्षण का भी दावा किया है। इसमें तीन दवाइयां हैं- एक श्वासारी बट्टी, दिव्य कोरोनिल टेबलेट और अणु तेल। तीनों का एकसाथ उपयोग करना है। उन्होंने कहा कि दवा परीक्षण के तीन दिन के भीतर 69 फीसद रोगी रिकवर हुए। सात दिन के भीतर सौ फीसदी ठीक हुए और उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई। बाबा रामदेव ने बताया कि सोमवार को Ordernil APP एप लॉन्च किया जाएगा। इसके जरिए तीन दिन के भीतर घर बैठे दवा उपलब्ध होगी।

इसके क्या फायदे
रामदेव का कहना है कि तीनों को साथ इस्तेमाल करने से कोरोना का संक्रमण खत्म हो सकता है और बीमारी से बचाव भी संभव है। रामदेव ने कहा कि शरीर में ऑक्सीजन की कमी होने पर श्वसारि देने से फायदा होता है। यह सर्दी, खांसी, जुकाम को भी एक साथ डील करता है। अणुतेल नाक में डालना होता है। ये भी कोरोना से बचाव करता है।

3 दिन में 69 फीसदी मरीज ठीक हुए
प्लेसवो क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल 100 लोगों के ऊपर किया गया। ये सभी 15 से 65 आयु वर्ग के हैं। इससे तीन दिन में 69 फीसद मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए हैं। दवाई बनाते वक्त सभी साइंटिफिक पैरामीटर का ध्यान रखा गया। सेकंड ट्रायल जल्द ही क्रिटिकल मरीजों पर किया जाएगा। रामदेव का दावा है कि कोरोनिल की क्लीनिकल केस स्टडी में 280 मरीजों को शामिल किया।

100 लोगों के ऊपर क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल की गई। 3 दिन के अंदर 69 फीसदी मरीज पॉजिटिव से निगेटिव हो गए और 7 दिन के अंदर 100 फीसदी रोगी ठीक हो गए। डेथ रेट 0 फीसदी रहा। सौ लोगों पर ट्रायल किया गया था, सात दिन में रिपोर्ट निगेटिव आई।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close