इंदौरमध्यप्रदेश

बैंडबाजा व्यवसायियों पर आई भूखें रहने की नौबत

खरगोन
देशभर में वैश्विक कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के दौरान सभी तरह के सार्वजनिक सहित मांगलिक कार्यक्रम रद्द कर दिए गए थे, जिसका सबसे अधिक असर रोज कमाकर खाने वालों पर पड़ा है, ऐसे लोगों की आर्थिक व्यवस्था में अनलॉक के एक माह बीत जाने के बाद भी कोई सुधार नहीं आ पाया है। मार्च से जून माह तक शादियों के मुहुर्त होने के बाद भी कामकाज नहीं होने से बैंड बाजा बजाने वाले व्यवसायियों पर भूखों मरने की नौबत आ गई है। आगामी 5 माह तक विवाह मुहूर्त नहीं है, जिससे इन व्यवसायियों को बड़े आर्थिक संकट का सामना करना पड़ेगा। कामकाज नहीं होने से परेशान बैंडबाजा व्यवसायी मंगलवार को कलेक्ट्रेट पहुंचे। यहां कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपकर उन्हें शासन स्तर पर आर्थिक मदद सहित रोजगार दिलाने की मांग की।

सौंपे ज्ञापन में बैंडबाजा व्यवसायी गोपाल, श्याम, कासम, दिनेश, सुनील, जगदीश आदि ने बताया कि जिलेभर में करीब 30 से अधिक व्यवसायी शादियों में बैंडबाजा बजाकर अपनी आजीविका चलाते है, वर्तमान में मुहुर्त के बाद भी शादियों पर रोक की वजह से उन्हें कोई काम नहीं मिला, नतीजतन अब परिवार का भरण-पोषण करना दुभर हो गया है। यहां तक की कई व्यवसायियों ने शादियों के सीजन के पूर्व कर्ज लेकर नए वाद्य यंत्र, बैंड गाडी, यूनिफार्म आदि की खरीदी और रिपेयरिंग कराई थी, जो लॉकडाउन के कारण कोई काम नहीं आ सके उलटे वह कर्जदार हो गए है। उनकी मांग है कि शासन उन्हें शासन स्तर पर बैंक लोन देकर रोजगार दिलाए। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close