बिज़नेस

भारतीय परिवारों ने लॉकडाउन के दौरान 14000 करोड़ रुपये से अधिक की अतिरिक्त सेविंग्स की

 नई दिल्ली 
लॉकडाउन के दौरान भारतीय परिवारों ने 200 अरब डॉलर ( करीब 14604 करोड़ रुपये) की अतिरिक्त सेविंग्स कर ली। जब पूरी दुनिया में कोरोना महामारी की वजह से लगे लॉकडाउन ने लोगों के जीवन और व्यापार पर बुरी तरह प्रभावित कर रहा था तो इसमें एक पाजीटिव चीज भी थी। लोगों ने अपने खर्चों में कटौती कर बचत की ओर ध्यान देना शुरू किया। यूबीएस की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत की घरेलू बचत 2014 और मध्य 2019 के बीच लगातार गिरती रही और इसके बाद 200 बिलियन डॉलर तक की अतिरिक्त बचत हो गई। यह लॉकडाउन में मंदी के कारण के कारण खर्च में कटौती की वजह से था। इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विस (ILFS) संकट के बाद से घरेलू उधारी में लगातार गिरावट का मतलब है कि उनका शुद्ध वित्तीय बचत लगभग दो दशक का है। 

हालांकि, यूबीएस विश्लेषकों का मानना है कि यह सब अर्थव्यवस्था के सामान्य होने और उपभोक्ता के आत्मविश्वास में सुधार के रूप में उभर सकता है। रिपोर्ट से पता चलता है कि जब कोरोना संकट घर पर दस्तक देने लगा तो भारतीय वापस वही करने चले गए जो सबसे अच्छा करते हैं। अधिकांश भारतीयों ने अपनी बचत में वृद्धि की और अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता बढ़ने के कारण खर्च पर अंकुश लगा दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close