भोपालमध्यप्रदेश

भोपाल के नए कलेक्टर बने आईएएस अविनाश लवानिया

भोपाल
 अविनाश लवानिया को राजधानी भोपाल का नया कलेक्टर बनाया गया है। निवर्तमान कलेक्टर तरुण पिथोड़े को खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता संरक्षण का संचालक बनाया गया है।

इससे पहले लवानिया भोपाल नगर निगम के कमिश्नर रह चुके हैं। मई 2018 में तत्कालीन शिवराज सरकार ने लवानिया को होशंगाबाद कलेक्टर से हटाकर भोपाल का नगर निगम कमिश्नर बनाया था। लेकिन, दिसंबर में सरकार बदली और लवानिया को हटा दिया गया। उनकी जगह बी. विजय दत्ता को कमिश्नर बनाया गया। लवानिया केवल छह महीने ही नगर निगम में पदस्थ रहे थे।

भोपाल में कोरोना रोकथाम में लगे कलेक्टर की भूमिका को देखते हुए परिवर्तन नहीं किया गया था। सामान्य प्रशासन विभाग ने गुरुवार को लवानिया और पिथौड़े की नई पदस्थापना के आदेश जारी कर दिए। 2009 बैच के आईएएस अधिकारी अनिवाश लवानिया सिंहस्थ (वर्ष 2016) के दौरान उज्जैन नगर निगम आयुक्त और मेला अधिकारी थे।

सिंहस्थ की सफलता इसके बाद उन्हें होशंगाबाद कलेक्टर बनाया गया। मई 2018 में वे भोपाल नगर निगम के आयुक्त बनाए गए। यहां से अपर आयुक्त वाणिज्यिक कर इंदौर पदस्थ हुए। कमल नाथ सरकार में उन्हें दिसंबर 2019 में संचालक खाद्य नागरिक आपूर्ति बनाया था। लॉकडाउन के दौरान समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद के काम को अंजाम देने की चुनौती थी, जिसे उन्होंने बखूबी अंजाम दिया।

चार आईपीएस भी बदले गए

मध्य प्रदेश में प्रशासनिक अफसरों के तबादले का सिलसिला अभी भी चल रहा है। एक दिन पहले ही राज्य में 6 IPS अफसरों के तबादले किए गए। रतलाम डीआईजी रुचिवर्धन मिश्र को भोपाल और अरविंद कुमार को भोपाल का एडीजी (एसएएफ) बनाया गया है। डीपी गुप्ता को जबलपुर एडीजी होमगार्ड बनाया गया है।

दीपिका सूरी को आईजी (महिला अपराध) पीएचक्यू भेजा गया, वहीं रुचि वर्धन मिश्रा डीआईजी प्रशासन पीएचक्यू बनाई गई हैं। अप्रैल माह में ही रुचि वर्धन को इंदौर से रतलाम भेजा गया था। विनीत खन्ना को ग्वालियर का डीआईजी एसएएफ बनाया गया और हिमानी खन्ना को ग्वालियर का डीआईजी (महिला अपराध) बनाया गया है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close