छत्तीसगढ़

मिनी राईस मिल बना वरदान,195 कृषकों ने उठाया लाभ

रायपुर। राज्य के दूरस्थ वनांचल जशपुर जिले के खनन प्रभावित ग्रामीण क्षेत्रों में जिला प्रशासन की खनिज न्यास निधि से ग्रामीण किसानों को कृषि विभाग द्वारा मिनी राईस मिल की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। इसके तहत जिला खनिज न्यास निधि मद से वर्ष 2020-21 में एक करोड़ 5 लाख की स्वीकृति दी गई है। इससे जशपुर जिले के 195 किसानों को मिनी राईस मिल से लाभांवित किया जा रहा है।
अधिकतर ग्रामीण क्षेत्रों में किसान गांवों में धान की खेती के साथ साग-सब्जी का भी उत्पादन करते हैं जिससे उनको आर्थिक आमदनी भी प्राप्त होती है। जिले के किसानों को अपने धान कुटवाने के लिए दूर जाना पड़ता था। उनकी सुविधाओं को देखते हुए कृषि विभाग द्वारा उन्हें मिनी राईस मिल की सुविधा दी गई है ताकि किसान धान उत्पादन के साथ ही अपने धान को घर पर ही कुटाई करके चावल बना सकते हैं। इसके अलावा कृषक मिनी राईस मिल द्वारा धान कुटाई के माध्यम से अपनी आमदनी को और अधिक बढ़ा सकते हैं। इसके तहत ग्राम जबला के किसान करमू को खनिज न्यास निधि मद से मिनी राईस मिल स्थापित करके दिया गया है। इस पर खुशी जाहिर करते हुए कृषक श्री करमू ने छत्तीसगढ़ शासन तथा जिला प्रशासन को धन्यवाद देते हुए कहा कि अब अपना धान कुटवाने के लिए दूर नहीं जाना पड़ेगा। साथ ही मेरी आमदनी भी निरंतर बढ?े लगी है। ऐसे ही खुशी का इजहार मिनी राईस मिल से लाभान्वित हो रहे अन्य कृषकों ने भी किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close