ग्वालियरमध्यप्रदेश

मुरैना में कोरोना टेस्ट की क्षमता 1000 तक बढ़ाई जायेगी

मुरैना
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान ने कहा है कि मुरैना में कोरोना टेस्टिंग की क्षमता 3 सौ, साढ़े 3 सौ से बढ़ाकर अब 1 हजार कर दी गई है। टेस्टिंग सपोट के लिये गजराजा मेडीकल काॅलेज ग्वालियर से टीम बुला ली गई है। उन्होंने कहा कि सैम्पलिंग बढ़ाने से काॅन्टेक्ट में आने वाले लोंगो की संख्या में कमी होगी। श्री सुलेमान ने कहा कि मुरैना में लोगों को कोरोना से आईडेंटिफाई करने के लिये नई टेक्नोलाॅजी एन्टी इम्युन टेस्ट किट भी उपलब्ध कराई जायेगी, जिससे कोरोना पर काबू पाया जा सके।

मोहम्मद सुलेमान गुरूवार को चंबल भवन के सभाकक्ष में कोरोना रिव्यू की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में भोपाल से आये लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के प्रमुख सचिव श्री मलय श्रीवास्तव, चंबल संभाग के कमिश्नर श्री रवीन्द्र कुमार मिश्रा,  पुलिस महानिरीक्षक चंबल जोन श्री मनोज शर्मा, उप पुलिस महानिरीक्षक हिंगड़कर, कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास, पुलिस अधीक्षक श्री अनुराग सुजानिया, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री तरूण भटनागर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.आर.सी. बांदिल सहित अन्य मैदानी स्वास्थ्य अधिकारी उपस्थित थे।

बैठक को संबोधित करते हुये अपर मुख्य सचिव श्री मोहम्मद सुलेमान ने कहा कि कोरोना महामारी से बचने के लिये लोंगो में जन जागरूकता जरूरी है। उन्होंने कहा कि इसके लिये जिला प्रशासन को नये नवाचार करने की जरूरत है, जिससे लोग जागरूक हो सके। हर व्यक्ति को कोरोना से बचने के लिये सोशल डिस्टेसिंग,  मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग कर अपने आप को बचाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में इंदौर, भोपाल, उज्जैन, नीमच जैसे जिलों में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने नये नये नवाचार करके कोरोना की गति को कम कर दिया है। अब लोग खुद को सुरक्षित रहने के लिये स्वयं सोशल डिस्टेंस एवं मास्क का उपयोग कर रहे हैं जिससे इन जिलों में कोरोना जैसी महामारी का ग्राफ कम हुआ है।

अपर मुख्य सचिव ने कहा कि मुरैना जिले में ऐसे क्या कारण रहे जिससे कि 21 जून से प्रतिदिन कोविड-19 की संख्या में लगातार वृद्धि होती रही है और स्वास्थ्य अधिकारी वृद्धि के आंकड़ों को आसानी से देखते रहे। उन्होंने कहा कि जरूर पाॅजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आने वाले व्यक्तियों की ट्रसिंग में अवश्य कमी रही होगी। इस कारण मुरैना में कोरोना की पाॅजिटिव संख्या में वृद्धि हुई। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन साढ़े 3 सौ सैम्पलों की अपेक्षा संदिग्ध या हाॅटस्पाॅट वाले इलाकों से प्रतिदिन 1000 सैम्पिलिंग कराई जाये। इसके लिये आवश्यकता पर ग्वालियर से चार सैम्पल लेने वाली टीम आज ही भेज दी जायेगी। उन्होंने कहा कि पाॅजिटिव व्यक्तियों को जितनी जल्दी हम पकड़ लेंगे उतनी जल्दी ही कोरोना की चेन तोड़ने में सफल रहेंगे। उन्होंने कहा कि जिले में कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां मरीजों की संख्या में वृद्धि हो रही है ऐसे क्षेत्रों में से प्रत्येक ब्लाॅक पर बीएमओ 15-15 संदिग्ध क्षेत्रों से सैम्पल रिपोर्ट कराकर भेजें। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close