उत्तर प्रदेशराज्य

योगी सरकार का फैसला , कस्तूरबा स्कूलों में अब सेल्फी से अटेंडेंस

लखनऊ
एकसाथ 25 स्कूलों में 'नौकरी' और करीब 1 करोड़ की सैलरी वसूलने के मामले ने यूपी सरकार की काफी फजीहत कराई। अनामिका शुक्ला के नाम से 25 स्कूलों में नौकरी करने वाली युवती को गिरफ्तार कर लिया गया है। हालांकि अब इससे सबक लेते हुए उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने सभी कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में सेल्फी से अटेंडेंस दर्ज कराने का आदेश दिया है।

बेसिक शिक्षा के महानिदेशक विजय किरण आनंद ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों (बीएसए) को इसको लेकर एक आदेश जारी किया है। पत्र के अनुसार, अब सभी शिक्षकों को ‘प्रेरणा’ ऐप पर स्टाफ-शिक्षकों, वॉर्डन और अन्य की सेल्फी क्लिक करना और अपलोड करना अनिवार्य है। पत्र में कहा गया है कि जो लोग तस्वीरें अपलोड नहीं करेंगे, उनकी उस दिन की अटेंडेंस नहीं लगेगी और उस दिन का वेतन भी नहीं मिलेगा।

सेल्फी नहीं तो वेतन नहीं मिलेगा
इसके अलावा सभी बीएसए को निर्देश दिया गया है कि वे अपने परिसरों में केजीबीवी की तरफ से दी जा रही सुविधाओं की तस्वीरें भी सुनिश्चित करें। इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्यभर के सरकारी शिक्षकों के दस्तावेजों की जांच करने का आदेश दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर किसी शिक्षक के फर्जी दस्तावेजों पर काम करने की सूचना मिली तो कड़ी कार्रवाई शुरू की जानी चाहिए।

'अनामिका शुक्ला घोटाले' के बाद सरकार ने उठाए कई कदम
बेसिक शिक्षा विभाग ‘अनामिका शुक्ला घोटाले’ के बाद कई तरह के उपाय कर रहा है। इस मामले में सामने आया कि एक महिला टीचर को 13 महीने तक 25 कस्तूरबा विद्यालय में नौकरी करते हुए दिखाया गया और वेतन के तौर पर 1 करोड़ रुपये निकाले गए। घोटाला सामने आने के बाद यूपी के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने इस मुद्दे पर डिटेल मांगी और जांच शुरू की गई। घोटाले में अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close