ग्वालियरमध्यप्रदेश

लहार में जहरीली शराब से 5 की मौत ,चार अस्पताल में भर्ती, प्रशासन सतर्क

ग्वालियर
 ग्वालियर (Gwalior) के पड़ोसी जिले भिंड के लहार में जहरीली शराब (Poisonous Liquor) पीने से बुधवार को पांच लोगों की मौत का मामला अभी शांत नहीं हुआ था कि ग्वालियर जिल में भी जहरीली शराब  (Poisonous Liquor) पीने से दो लोगों की मौत हो गई जबकि चार लोग अस्पताल में भर्ती कराये गए हैं। भर्ती कराये गए लोगों की आँख की रोशनी प्रभावित हुई है। सूचना के बाद जिला प्रशासन सतर्क हो गया है।

पीसीसी चीफ और पूर्व सीएम कमलनाथ ने भिंड में जहरीली शराब से मौत के मामले में विधायकों का जांच दल गठित किया है. जांच दल में पूर्व मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह, लाखन सिंह, रामनिवास रावत, अशोक सिंह और प्रवीण पाठक को शामिल किया गया है.
सूचना पर वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी और पुलिस अधिकारी जयारोग्य अस्पताल पहुँच गए। उन्होंने मीडिया को जाँच की बात कहकर कुछ नहीं बताया । उधर प्रशासन अस्पताल में हुइ केवल एक की मौत की बात कह रहा है उसका कहना है दूसरे की मौत का क्या कारण है ये जाँच में सामने आएगा।

बहरहाल चंबल अंचल के मुरैना में जहरीली शराब (Poisonous Liquor) पीने से हुई 27 लोगों की मौत के घाव अभी तक भर नहीं पाए थे कि एक बार फिर भिंड और ग्वालियर में जहरीली शराब (Poisonous Liquor) पीने से 7 लोगों की मौत हो गई। होली पर लोगों ने जमकर शराब पी। शराब का असर ये हुआ कि कुछ लोगों की जान चली  और कुछ जिंदगी  और मौत के बीच झूल रहे हैं। अस्पताल में भर्ती लोगों की आँखों की रौशनी पर असर पड़ा है   ये शराब कहा से आई , ये कितनी जहरीली थी ये जाँच का विषय है लेकिनभिंड और  ग्वालियर में दो दिन के अंतराल में पांच लोगों की मौत हो गई और 6 लोग अस्पताल में भर्ती हैं।

सरकार पर निशाना
कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा जहरीली शराब से मौतों का सिलसिला जारी है. प्रदेश में शराब माफिया बेखौफ हैं. उज्जैन मुरैना के बाद भिंड में जहरीली शराब पीने से 5 लोगों की मौत सिस्टम पर सवालिया निशान लगाता है. उज्जैन मुरैना शराब कांड के बाद प्रदेश में शराब माफिया को लेकर सरकार के दावे हवा-हवाई साबित हो रहे हैं. बीते 1 साल में प्रदेश में जहरीली शराब से मरने वालों का यह पांचवां मामला है. प्रदेश में अब तक 50 से ज्यादा लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हो चुकी है. उन्होंने सरकार पर दिखावटी कार्रवाई करने का आरोप लगाया.

पुलिस पर मिलीभगत का आरोप
पूर्व मंत्री कांग्रेस नेता और लहार विधायक डॉक्टर गोविंद सिंह ने कहा पुलिस की मिलीभगत से जहरीली शराब की बिक्री हो रही है. उन्होंने मृतकों के परिवार को ₹10 लाख की मदद देने और अवैध शराब की बिक्री रोकने में लापरवाह पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. एमपी यूपी से लगे गांव में जहरीली शराब का यह पूरा मामला है.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close