बिज़नेस

विदेशी मुद्रा भंडार 5.94 अरब डॉलर बढ़कर रिकॉर्ड 507.64 अरब डॉलर पर पहुंचा

मुंबई
देश का विदेशी मुद्रा भंडार 12 जून को समाप्त सप्ताह में 5.942 अरब डॉलर की पर्याप्त वृद्धि के साथ 507.644 अरब डॉलर के सर्वकालिक उच्च स्तर को छू गया। सपताह के दौरान विदेशीमुद्रा आस्तियों के बढ़ने से यह वृद्धि हुई है।  रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, इससे पूर्व पांच जून को समाप्त हुए सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार पहली बार 500 अरब डालर के स्तर ko लांघ गया था, जब यह 8.22 अरब डॉलर बढ़कर 501.703 अरब डॉलर पर पहुंचा था।

समीक्षाधीन सप्ताह में, कुल मुद्रा भंडार का महत्वपूर्ण घटक यानी विदेशीमुद्रा आस्तियां, 5.106 अरब डॉलर बढ़कर 468.737 अरब डॉलर हो गईं। अर्थशास्त्रियों के अनुसार, विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि का कारण अधिक पूंजी निवेश होना तथा चालू खाता के घाटे का कम होना था। कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न व्यवधानों की वजह से कारोबारी गतिविधियों में सुस्ती आई है।

उन्होंने कहा कि विदेशी मुद्रा भंडार की यह जमा धनराशि एक वर्ष के आयात के खर्च के बराबर है। समीक्षाधीन सप्ताह में स्वर्ण आरक्षित भंडार 82.1 करोड़ डॉलर बढ़कर 33.173 अरब डॉलर हो गया। रिजर्व बैंक के आंकड़े दर्शाते हैं कि अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के तहत भारत का विशेष आहरण अधिकार समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान 1.2 करोड़ डॉलर बढ़कर 1.454 अरब डॉलर हो गया। जबकि आईएमएफ में देश का मुद्राभंडार 30 लाख डॉलर बढ़ककर 4.280 अरब डॉलर हो गया।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close