उत्तर प्रदेशराज्य

शहर-शहर विकास दुबे की तलाश तेज, फरीदाबाद से लेकर अलवर तक में अलर्ट

नई दिल्ली 
कानपुर में आठ पुलिसवालों को मारकर फरार हुए कुख्यात अपराधी विकास दुबे की तलाश अभी तक जारी है. एनकाउंटर की घटना को करीब एक हफ्ता हो गया है, लेकिन उत्तर प्रदेश पुलिस अभी तक उसे ढूंढ नहीं पाई है. विकास दुबे को लेकर लगातार खबरें आ रही हैं, उसके कभी हरियाणा तो कभी राजस्थान में होने का इनपुट मिलता है. लेकिन पुलिस के हाथ अभी तक खाली हैं.

राजस्थान में है विकास दुबे???
बीते दिनों विकास दुबे के हरियाणा के फरीदाबाद में होने की खबर आई. एक सीसीटीवी फुटेज में उसकी झलक भी दिखी, जिसके बाद होटल में छापेमारी की गई. यहां से विकास दुबे तो नहीं मिला, लेकिन उसके कुछ साथी और हथियारों को बरामद किया गया. अब इसके बाद इंटेल मिला है कि विकास दुबे राजस्थान की ओर भाग गया है. ऐसे में राजस्थान पुलिस भी अलर्ट पर है. यहां वो अलवर या दौसा जिले के आसपास हो सकता है.
 
नोएडा में बढ़ाया गया अलर्ट
इससे पहले बुधवार शाम को अचानक नोएडा में हलचल बढ़ती हुई दिखी. जहां ये खबर सामने आ रही थी कि विकास दुबे फिल्म सिटी में किसी समाचार चैनल के दफ्तर में खुद को सरेंडर कर सकता है. इसी के बाद नोएडा पुलिस ने फिल्म सिटी को घेर लिया था, लेकिन विकास दुबे यहां भी नहीं आया.

अब उत्तर प्रदेश की पुलिस राजस्थान, मध्य प्रदेश और हरियाणा पुलिस के साथ संपर्क में है और विकास दुबे की तलाश जारी है. इसके अलावा नोएडा और ग्रेटर नोएडा की प्रमुख सड़कों पर नाका लगाकर पुलिस चेकिंग में जुटी है. विकास दुबे इस इलाके के किसी गांव में भी हो सकता है, ऐसे में पुलिस की ओर से उसे तलाशने की हर संभव कोशिश की जा रही है.

 विकास दुबे के साथियों पर एक्शन
भले ही विकास दुबे अभी तक ना मिला हो, लेकिन पुलिस उसके साथियों पर एक्शन कर रही है. फरीदाबाद में छापेमारी के दौरान पुलिस ने उसके तीन साथियों को गिरफ्तार किया, जिन्होंने उसे भगाने में मदद की थी. इसी के साथ अबतक कुल 6 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. वहीं विकास दुबे का ही पर्सनल बॉडीगार्ड रहा अमर दुबे भी एनकाउंटर में मारा जा चुका है, अब विकास के भी रिश्तेदारों पर शिकंजा कसा जा रहा है.

संदिग्ध पुलिसवालों पर भी एक्शन
यूपी पुलिस और एसटीएफ की ओर से अब उन पुलिसवालों पर भी एक्शन लिया गया है, जिन्होंने विकास दुबे को एनकाउंटर की जानकारी दी थी. इसी वजह से वो पहले से अलर्ट हो गया था. बुधवार को दो पुलिस अधिकारियों को गिरफ्तार किया गया. जानकारी के मुताबिक चौबेपुर पुलिस स्टेशन के निलंबित एसओ विनय तिवारी और बीट प्रभारी केके शर्मा को आखिरकार गिरफ्तार कर लिया गया है, दोनों पर ही मुखबरी करने का आरोप है.

गौरतलब है कि कानपुर में 2 जुलाई की रात को जब पुलिस विकास दुबे के घर दबिश करने पहुंची, तो विकास दुबे और उसके गैंग ने पुलिसवालों पर हमला कर दिया. इसमें आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए और विकास दुबे वहां से फरार हो गया.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close