राजनीतिक

सत्येंद्र जैन ने एलजी के फैसले पर जताई हैरानी, बोले- यूपी और हरियाणा में होटल खुले हैं तो दिल्ली में क्यों नहीं

नई दिल्ली
अनलॉक-3 में होटलों को फिर से खोलने के दिल्ली कैबिनेट के फैसले को उपराज्यपाल अनिल बैजल द्वारा रद्द किए जाने पर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने हैरानी जताई है। जैन ने शनिवार को कहा कि उत्तर प्रदेश के नोएडा और गाजियाबाद और हरियाणा के गुरुग्राम में भी होटल खुले हुए हैं, जबकि वहां पर केस बढ़ रहे हैं। दिल्ली में अब केस घट रहे हैं तो होटल खुलने चाहिए थे, लेकिन उपराज्यपाल ने कैबिनेट के फैसले को खारिज कर दिया, बाकी उपराज्यपाल साहब की मर्जी। सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली अब कोरोना वायरस (COVID-19) के सक्रिय मामलों में 12वें नंबर पर आ चुका है जो डेढ़ महीने पहले दूसरे नंबर पर हुआ करता था। देश में कोरोना का डबलिंग रेट 21 दिन है और दिल्ली में 50 दिन के आसपास है। आज से दिल्ली में सिरोलॉजिकल सर्वे शुरू हो रहा है। पिछले सर्वे में 24% लोग सकारात्मक आए थे। यह एक बहुत ही तकनीकी प्रक्रिया है, जो कि पूरी दिल्ली में आयोजित की जाएगी। 

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 1195 नए मरीज मिलने के बाद यहां संक्रमितों की कुल संख्या 1.35 लाख के पार पहुंच गई गई है। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग की ओर से शुक्रवार शाम को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, बीते 24 घंटे में जहां कोरोना के 1195 नए मरीज मिले हैं वहीं, 27 मरीजों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी है।स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि दिल्ली में संक्रमितों की कुल संख्या 1,35,598 हो गई है। शुक्रवार को दिल्ली में 1,206 मरीज पूरी तरह ठीक होकर अपने घर चले गए। राजधानी में फिलहाल 10,705 एक्टिव मामले हैं। वहीं, अब तक कुल 1,20,930  मरीज ठीक हो चुके हैं। इसके साथ ही अब तक मरने वालों की संख्या 3963 हो गई है। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, आज दिल्ली में 5,629 आरटीपीआर/ सीबीएनएएटी / ट्रूनैट टेस्ट और 13,462 रैपिड एंटीजन टेस्ट किए गए। दिल्ली में अब तक कुल 10,32,785 जांचें हुई हैं। बुधवार को यहां कंटेनमेंट जोन की संख्या घटकर 704 रह गई। 

दिल्ली में अब तक 10 लाख से अधिक सैंपल्स की हुई जांच 
दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के लिए अब तक 10 लाख से अधिक नमूनों की जांच की जा चुकी है। आंकड़ों के अनुसार इनमें से लगभग आधे सैंपल्स की जांच पिछले 30 दिनों में की गई। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में अब तक 10,32,785 टेस्ट किए गए हैं यानी औसतन प्रति 10 लाख आबादी पर 54,357 सैंपल्स की जांच की गई है। पिछले महीने हर रोज कोरोना वायरस के 2,000-3000 नए मामले सामने आ रहे थे जिसे देखते हुए दिल्ली में जांच क्षमता बढ़ा दी गई। आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई में 3.82 लाख रैपिड एंटीजन टेस्ट हुए। रोजाना किए जाने वाले रैपिड एंटीजन जांचों की संख्या आरटी-पीसीआर जांचों के दोगुने से अधिक है।  
 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close