बिज़नेस

सेंसेक्स 143 अंक टूटकर 36.594.33 अंक ,निफ्टी 45.40 अंक गिरकर 10,768 अंक पर बंद

मुंबई

एशिया के अन्य शेयर बाजारों में गिरावट के बीच वित्तीय कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से बीएसई सेंसेक्स शुक्रवार को 143 अंक टूटकर 36.594.33 अंक पर बंद हुआ. तीस शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 143.36 अंक यानी 0.39 प्रतिशत की गिरावट के साथ 36,594.33 अंक पर रहा. वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 45.40 अंक यानी 0.42 प्रतिशत गिरकर 10,768.05 अंक पर बंद हुआ.

एक्सिस बैंक को 3 प्रतिशत से अधिक नुकसान

सेंसेक्स के शेयरों में एक्सिस बैंक को सर्वाधिक 3 प्रतिशत से अधिक नुकसान हुआ। इसके अलावा इंडसइंड बैंक, टाइटन, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक, ओएनजीसी और एचडीएफसी बैंक में गिरावट दर्ज की गयी. दूसरी तरफ रिलायंस इंडस्ट्रीज, सन फार्मा, एचयूएल, भारती एयरटेल और टीसीएस के शेयर लाभ में रहे. इस बीच, भारतीय रुपया शुक्रवार को कारोबार के दौरान 21 पैसे टूटकर 75.20 के स्तर पर बंद हुआ. इसके अलावा प्रमुख प्रतिस्पर्धी मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर के रुख में मजबूती से भी घरेलू मुद्रा पर दबाव बढ़ा.

पीएनबी के शेयर में 6 फीसदी की गिरावट

इस बीच, पंजाब नेशनल बैंक के शेयर में 6 फीसदी तक की गिरावट आई है. आपको बता दें कि पीएनबी में एक और बैंकिंग फ्रॉड का मामला सामने आया है. बता दें कि पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने दीवान हाउसिंग फाइनेंस लि. (डीएचएफएल) के एनपीए (गैर-निष्पादित परिसंपत्ति) खाते में 3,688.58 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के बारे में जानकारी आरबीआई को दी है.

टीसीएस को 7,008 करोड़ का लाभ

कारोबार के दौरान टीसीएस के शेयर भी लाल निशान पर कारोबार करते नजर आए. आपको बता दें देश की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) को जून में समाप्त तिमाही में 7,008 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ है. यह साल भर पहले की इसी तिमाही से 13.8 प्रतिशत कम है.

कंपनी ने बताया कि उसे पिछले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 8,131 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था. इस तिमाही के दौरान कंपनी का राजस्व मामूली बढ़कर साल भर पहले के 38,172 करोड़ रुपये की तुलना में 38,322 करोड़ रुपये पर पहुंच गया.

कोरोना वायरस महामारी से दुनिया भर में व्यवसाय प्रभावित हुए हैं. भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) कंपनियों के ऊपर मार्च तिमाही में महामारी का सीमित असर देखने को मिला था. महामारी के असर को पूरी जून तिमाही में महसूस किया गया है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close