विदेश

सैटेलाइट लॉन्चिंग के दौरान हादसा, स्कूल के पास गिरा रॉकेट का बूस्टर

पेइचिंग
चीन ने लॉन्ग मार्च 4 बी रॉकेट (Long March 4B Rocket) के जरिएअर्थ ऑब्जरवेशन सैटेलाइट गॉफन 11 (Gaofen 11 Satellite) को लॉन्च किया। इस दौरान चीनी वैज्ञानिकों की लापरवाही से एक बड़ी दुर्घटना होते-होते बची। लॉन्चिंग के दौरान ही रॉकेट लॉन्ग मार्च 4 बी का बूस्टर अचानक ही आसमान से एक स्कूल के पास आकर गिर गया। गनीमत रही कि इस दौरान किसी जानमाल का नुकसान नहीं हुआ। ये बूस्टर्स अत्यंत ज्वलनशील जेट फ्यूल से भरे होते हैं, जो किसी घातक मिसाइल जितनी चोट पहुंचा सकते हैं।

चीनी वैज्ञानिकों की लापरवाही से हुई दुर्घटना
आमतौर पर जब कोई सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजा जाता है तो उसके रॉकेट को शक्ति देने वाले बूस्टर्स को लेकर खासी सावधानी बरती जाती है। ये बूस्टर्स रॉकेट को धरती के गुरुत्वाकर्षण बल से बाहर लेकर जाते हैं। जब इन रॉकेट्स का काम या इनका फ्यूल खत्म हो जाता है तो इन्हें रॉकेट से अलग कर दिया जाता है। इस दौरान वैज्ञानिक इस बात का ध्यान रखते हैं कि रॉकेट से अलग होने के बाद धरती पर गिरते समय ये बूस्टर्स किसी रिहायशी इलाके में न गिरें। लेकिन, इस बार चीन के वैज्ञानिकों ने इसका ध्यान नहीं रखा।

स्कूल के पास गिरा रॉकेट का बूस्टर
इस घटना का वीडियो अब तेजी से इंटरनेट पर वायरल हो रहा है। जिसमें आसमान से रॉकेट का बूस्टर गिरते हुए दिखाया गया है। यह बूस्टर तेजी से जमीन की तरफ आता है। जिसके कारण वीडियो को शूट कर रहे लोग अचानक चिल्लाने और भागने लगते हैं। कुछ सेकेंड बाद गहरा धुआं उठते दिखाई देता है। बूस्टर के गिरने वाले स्थान पर बड़ा सा गढ्ढा दिखाई देता है और उसके मलबे आसपास बिखरे हुए नजर आते हैं।

हाई रिज्योलूशन कैमरों से लैस है यह सैटेलाइट
चीन के शक्तिशाली गॉफन सैटेलाइट को उत्तरी चीन के ताइयुआन सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से लॉन्ग मार्च 4 बी रॉकेट के जरिए सोमवार दोपहर 1:57 बजे प्रक्षेपित किया गया था। यह एक अर्थ ऑब्जरवेशन सैटेलाइट है जो सैन्य और असैन्य दोनों तरह की गतिविधियों में प्रयोग किया जाता है। इस सैटेलाइट में कई हाई रिज्योलूशन के कैमरे लगे हैं। जो धरती की तीन फीट की ऊंचाई पर स्थित किसी ऑब्जेक्ट की हाई क्वालिटी तस्वीरें ले सकते हैं।

धरती पर नजर रखेगा यह चीनी सैटेलाइट
चीनी मीडिया के अनुसार, गॉफन सैटेलाइट से मिले डेटा का उपयोग मुख्य रूप से भूमि सर्वेक्षण, शहर नियोजन, भूमि अधिकार पुष्टि, सड़क नेटवर्क डिजाइन, फसल उपज अनुमान और आपदा रोकथाम और शमन के लिए किया जाएगा। हालांकि, चीन की कथनी और करनी में कितना फर्क होता है वह सब लोग जानते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, चीन इस सैटेलाइट का उपयोग दुश्मन देशों में जासूसी करने और साउथ चाइना सी पर नजर रखने में भी कर सकता है।

क्या होता है अर्थ ऑब्जरवेशन सैटेलाइट
अर्थ ऑब्जरवेशन सैटेलाइट से धरती के किसी भी हिस्से पर नजर रखी जा सकती है। इनमें कई हाईटेक कैमरे लगे होते हैं जो धरती की हाई रिज्योलूशन तस्वीरें खींचते हैं। अब जितने भी अर्थ ऑब्जरवेशन सैटेलाइट लॉन्च किए जा रहे हैं वे सभी धरती पर खड़े किसी व्यक्ति के कलाई में बंधी घड़ी के समय को भी देख सकते हैं। मुख्य रूप से इन सैटेलाइट्स का काम अंतरिक्ष से जमीन पर नजर रखना होता है। जिससे समय रहते आपदाओं को रोकने और वन भूमि पर नजर रखने जैसे काम किए जाते हैं। कई देशों में ऐसी सैटेलाइट्स का उपयोग सैन्य जासूसी के लिए भी किया जाता है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close