देश

स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2020 ग्रैंड फिनाले की शुरुआत ,नई शिक्षा नीति से आत्मनिर्भर होगा युवा : PM

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार शाम को स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2020 के ग्रैंड फिनाले (Grand Finale of Smart India Hackathon 2020) के प्रतिभागियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया। प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए (PM Narendra Modi at Smart India Hackathon 2020) उन्होंने कहा कि 21वीं सदी ज्ञान की सदी है और तेजी से बदली दुनिया में भारत को भी तेजी से बदलना होगा। उन्होंने नई शिक्षा नीति की तारीफ करते हुए कहा कि इसमें पहले की कमियों को दूर किया गया है। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति नौकरी खोजने वालों के बजाय नौकरी देने वालों को बनाने पर जोर देती है।

नई शिक्षा नीति में पहले की कमियों को दूर किया गया: पीएम मोदी
पीएम मोदी ने कहा कि 21वीं सदी ज्ञान की सदी है और इस दौरान सीखने पर फोकस होना चाहिए। उन्होंने कहा कि तेजी से बदलती हुई दुनिया में भारत को अपनी वही प्रभावी भूमिका निभाने के लिए उतनी ही तेजी से बदलना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि नई शिक्षा नीति में पहले की कमियों को दूर किया गया है। उन्होंने कहा कि अब अगर कोई मैथ और म्यूजिक की एक साथ पढ़ाई चाहता है तो वह ऐसा कर पाएगा।

नई शिक्षा नीति से भारत की भाषाएं बढ़ेंगी: पीएम
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नई शिक्षा नीति से न सिर्फ भारत की भाषाएं बढ़ेंगी बल्कि दुनिया भी भारत की समृद्ध भाषाओं से परिचित होगी। उन्होंने कहा, 'अब एजुकेशन पॉलिसी में जो बदलाव लाए गए हैं, उससे भारत की भाषाएं आगे बढ़ेंगी, उनका और विकास होगा। ये भारत के ज्ञान को तो बढ़ाएंगी ही, भारत की एकता को भी बढ़ाएंगी। इससे विश्व का भी भारत की समृद्ध भाषाओं से परिचय होगा। और एक बहुत बड़ा लाभ ये होगा की विद्यार्थियों को अपने शुरुआती वर्षों में अपनी ही भाषा में सीखने को मिलेगा।'

स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन के प्रतिभागियों से रूबरू हुए पीएम मोदी
संवाद के दौरान प्रतिभागी छात्रों ने अपने-अपने इनोवेटिव आइडियाज और तकनीकी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ शेयर किया। पीएम ने भी प्रतिभागियों की हौसलाअफजाई की। प्रधानमंत्री से रूबरू होने पर स्टूडेंट भी काफी खुश दिखे। पहला स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2017 में शुरू किया गया था। इसे एचआरडी मिनिस्टिरी और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद संयुक्त रूप से आयोजित करती हैं।

जब पीएम मोदी ने स्टूडेंट से पूछा- क्या कभी पुलिस से पड़ा है पाला
इस दौरान पीएचडी कॉलेज ऑफ कोयंबटूर की टीम 'माइंड बेंडर्स' के एक प्रतिभागी कुंदन ने मशीन लर्निंग के इस्तेमाल वाली एक ऐसी तकनीक के बारे में पीएम मोदी को बताया जिससे पुलिसिंग में सुधार हो सकती है। प्रतिभागी ने बताया कि उनकी टीम एक ऐसा प्लेटफॉर्म बना रही है जिससे पुलिस को लोगों की समस्याओं को सही से समझने में आसानी होगी। पुलिस और लोगों के बीच का गैप पटेगा। लोगों में पुलिस का जो डर है बह खत्म होगा। इस दौरान बहुत रोचक संवाद भी हुआ।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close