लाइफ स्टाइलहेल्थ एंड ब्यूटी

हल्दी और दूध का सेवन बुजुर्गों के लिए लाभकारी

 

हल्दी और दूध का सेवन करने बारे में आपने अपने घर में अक्सर किसी ना किसी से जरूर सुना होगा। घर के बड़े बुजुर्ग अक्सर चोट लग जाने या शरीर के किसी हिस्से में में दर्द आदि होने पर हल्दी दूध पीने की सलाह देते हैं। जबकि बुजुर्गों को बढ़ती उम्र के साथ हल्दी और दूध का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए। यह उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने के लिए प्रभावी रूप से तो कार्य करेगा ही, साथ ही साथ अन्य कई रोगों से भी बचाए रखने में मददगार साबित होगा।

हल्दी और दूध का सेवन बुजुर्गों को क्यों अधिक मात्रा में करना चाहिए, इसके बारे में आपको नीचे विस्तारपूर्वक जानकारी दी जा रही है।

​अल्जाइमर का खतरा कम करे
बुजुर्गों को अल्जाइमर की समस्या बहुत आम हो जाती है। दरअसल, बढ़ती हुई उम्र में दिमाग का हिस्सा काफी कमजोर होने लगता है और इंसान की याददाश्त पर भी बुरा असर पड़ता है। वह घर के रास्ते और घर के कुछ सदस्यों को अचानक से देखने पर पहचान नहीं पाते हैं। जबकि हल्दी और दूध का किया गया सेवन अल्जाइमर रोग से बचाने में बहुत मददगार साबित हो सकता है।

सूजन को कम करे
बुजुर्गों को अक्सर आपने सूजन की समस्या से परेशान होते हुए जरूर देखा होगा। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बढ़ती उम्र में शरीर की कई सारी कोशिकाएं कमजोर हो जाते हैं और जब बुजुर्ग टहलने के लिए काफी लंबी दूरी तय कर लेते हैं तो खास तौर पर उनके पैरों में सूजन आ जाती है। इस समस्या को दूर करने और इससे बचे रहने के लिए हल्दी दूध का नियमित सेवन काफी मददगार साबित होगा।

​हड्डी रोगों से देगा सुरक्षा
दूध में मौजूद कैल्शियम सामान्य रूप से भी हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए मददगार साबित होता है। वहीं, बात की जाए अगर हल्दी की तो इसमें मौजूद चमत्कारिक औषधीय गुण अर्थराइटिस के कारण होने वाले दर्द और इसके होने के जोखिम को भी काफी हद तक कम कर सकते हैं। इसलिए अगर आपके घर में भी कोई बुजुर्ग हैं तो उन्हें हफ्ते में कम से कम तीन से चार बार हल्दी दूध का सेवन जरूर कराएं।

​बल्ड प्रेशर को कंट्रोल करने में
ब्लड प्रेशर को संतुलित बनाए रखने में भी हल्दी प्रभावी रूप से मददगार साबित होती है। बुजुर्गों को अक्सर ब्लड प्रेशर की समस्या परेशान करती है। इससे बचे रहने के लिए उन्हें हल्दी दूध का सेवन जरूर करना चाहिए। हल्दी में पोटेशियम की मात्रा पाई जाती है। यह ब्लड प्रेशर को संतुलित बनाए रखने के लिए जरूरी पोषक तत्व माना जाता है।

​डायबिटीज और हृदय रोग के खतरे को कम करे
जिन बुजुर्गों को डायबिटीज और हृदय रोग की समस्या है, वे इससे होने वाले जोखिम को कम करने के लिए हल्दी दूध का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा जो बुजुर्ग अपनी सेहत का खास ख्याल रखते हैं और उन्हें अभी तक इन समस्याओं से दो-चार होना नहीं पड़ा है, वह भी हल्दी दूध का सेवन कर सकते हैं। हल्दी में एंटीडायबेटिक और कार्डियोप्रोटेक्टिव एक्टिविटी पाई जाती है। यह डायबिटीज और हृदय रोगों से सुरक्षा प्रदान करने के लिए प्रभावी रूप से मददगार साबित हो सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close