दिल्ली/नोएडाराज्य

होम क्वारनटीन हो सकेंगे कोरोना पॉजिटिव,LG ने लिया आदेश वापस

नई दिल्ली
दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल ने राजधानी में कोरोना के मरीजों को 5 दिन इंस्टीट्यूशनल क्वॉरंटीन में रखने के फैसले को वापस ले लिया है। उप-राज्यपाल ने कहा कि इंस्टीट्यूशन आइसोलेशन के मामले में केवल उन्हीं कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों को इंस्टीट्यूशन आइसोलेशन में जाना होगा जिन्हें क्लिनिकल एसेसमेंट के लिए अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं है और जिनके पास होम आइसोलेशन की पर्याप्त सुविधा नहीं है।

क्वॉरंटीन को लेकर उप-राज्यपाल और दिल्ली सरकार के बीच घमासान भी बढ़ता जा रहा था। उप-राज्यपाल का कहना था कि दिल्ली में कोविड-19 के सभी मरीजों को कम से कम पांच दिन किसी सरकारी फैसलिटी में क्वॉरंटीन में रहना चाहिए और उसके बाद उन्हें घर में क्वॉरंटीन की अनुमति दी जानी चाहिए।

दिल्ली सरकार का विरोध
लेकिन दिल्ली सरकार इसका विरोध कर रही थी। उसका कहना था कि इसके लिए बड़ी संख्या में क्वॉरंटीन फैसलिटी बनानी होगी जिसके लिए डॉक्टरों, नर्सों और जगह की जरूरत पड़ेगी। सरकार के पास इतने संसाधन नहीं हैं। उप-राज्यपाल के फैसले को दिल्ली हाई कोर्ट में भी चुनौती दी गई थी।

वहीं इस मुद्दे पर दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा था कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल से कहा कि होम आइसोलेशन खत्म करने पर समस्याएं होंगी. उन्होंने कहा था कि सरकारी अस्पतालों और अन्य सरकारी इंतजामों में अभी सिर्फ 6000 बेड उपलब्ध हैं. जबकि दिल्ली में अभी होम आइसोलेशन में 10 हजार लोग रह रहे हैं. अब सवाल है कि इन्हें कहां रखा जाए.

वहीं देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार तेज हो चुकी है. दिल्ली में अब तक कोरोना वायरस के 53116 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है. इसके अलावा दिल्ली में कोरोना के कारण मरने वालों की संख्या दो हजार के पार हो चुकी है. दिल्ली में कोरोना के कारण 2035 लोगों की जान जा चुकी है.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close